मंडी धनौरा: सरकारी अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक व पुणे महाराष्ट्र के निजी नर्सिग होम में कार्यरत उनकी चिकित्सक पत्नी कोरोना योद्धा के रूप में अपनी जिम्मेदारियों का निर्वहन कर रहे हैं। दोनों कोरोना पीड़ितों के उपचार देने में जुटे हैं। पत्नी अपने चिकित्सक पति की सलामती को लेकर चितित रहती हैं। दूरभाष पर पति-पत्नी एक दूसरे का हालचाल जानते रहते हैं।

इन दिनों कोरोना वायरस संक्रमण का प्रकोप चल रहा है। देश भर में कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़ती जा रही है। यहां मंडी धनौरा के सरकारी अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक डॉ. अमोल कुमार अपने कर्तव्यों को पूर्ण ईमानदारी के साथ अंजाम दे रहे हैं। दूसरी तरफ महाराष्ट्र के पुणे में एक निजी नर्सिग होम में कार्यरत उनकी चिकित्सक पत्नी नवोदिता भी कोरोना योद्धा के रूप में मरीजों का उपचार कर रही हैं। हालांकि पत्नी अपने चिकित्सा अधीक्षक पति की सेहत को लेकर अक्सर चितित रहती हैं। दोनों खाली समय में दूरभाष से ही एक दूसरे का हालचाल पूछते रहते हैं।

चिकित्सक नवोदिता का कहना है कि उनके पति संकट काल की इस स्थिति में कोरोना संक्रमित लोगों को उपचार पहुंचा रहे हैं। मरीज को उपचार देना चिकित्सक का पहला धर्म है, इसको लेकर वह अपने पति की हौसला आफजाई करती हैं। चिकित्सा अधीक्षक डॉ. अमोल कुमार ने बताया कि उनकी पत्नी भी अपनी जिम्मेदारियों का पूर्ण ईमानदारी के साथ निर्वहन कर रही हैं।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस