अमरोहा : महकमे के लाख कोशिशों के बावजूद डेंगू का कहर रुकने का नाम नहीं ले रहा है। एक बार फिर दो डेंगू आशंकित मरीज मिलने से स्वास्थ्य विभाग की नींद उड़ गई है। महकमे ने दोनों को जिला अस्पताल में भर्ती कराया है। जिसमें पहली जांच पॉजिटिव पाई गई है। चिकित्सकों की टीम ने दोनों के खून के नमूने लेकर जांच के लिए भेजा है। जिले में डेंगू बेलगाम साबित हो रहा है, क्योंकि स्वास्थ्य विभाग के गांवों में जगह-जगह छिड़काव के बाद डेंगू आशंकित मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। जिसमें सरकारी रिकार्ड के अनुसार अभी तक महज बीस डेंगू आशंकित मिले हैं, लेकिन हकीकत में आशंकित मरीजों की संख्या दो-गुनी से भी अधिक है। अब फिर दो डेंगू आशंकित मरीज मिले हैं। जिसमें पहला केस कांठ थाना क्षेत्र के नया गांव का है। गांव के यूनुस (42) को पांच छह दिन से बुखार आ रहा था। जिसका इलाज गांव में कराया, हालत बिगड़ने पर जिला अस्पताल में भर्ती कराया। वहां पहली जांच में डेंगू आशंकित पाए गए। दूसरा केस नौगावां सादात थाना क्षेत्र के गांव बीलना का है। गांव के मुहम्मद शमशाद की पत्नी आसमा(25) 6-7 दिन से बुखार से पीड़ित थीं। गांव में ही इलाज कराने पर हालत में सुधार नहीं हुआ तो जिला अस्पताल में भर्ती कराया। जहां प्रथम जांच डेंगू आशंकित पाईं गई। चिकित्सकों ने दूसरी जांच के खून का नमूना लेकर जांच के लिए भेजा है। इमरजेंसी वार्ड में अव्यवस्थाएं हावी

जिला अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड में अव्यवस्थाएं हावी हैं। डेंगू आशंकित मरीज युनूस को बेड की बजाय एक बेंच पर लिटा दिया और ड्रिप चढ़ानी शुरू कर दी। आलम यह था कि डेंगू आशंकित मरीज के पांव भी पूरी तरह से फैल रहे थे। करवट लेने में भी परेशानी हो रही थी, लेकिन स्टाफ के किसी भी व्यक्ति ने उन्हें बेड उपलब्ध नहीं कराया।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप