उझारी : मंडी धनौरा के विधायक राजीव तरारा के गांव तरारा 60 वर्षीय किसान को पिछले कुछ दिनों से बुखार एवं सांस लेने में परेशानी हुई। गुरुवार को परिजन हसनपुर के निजी अस्पताल ले गए लेकिन, चिकित्सक ने हालत देखते हुए बाहर ले जाने की सलाह दी। परिजन उन्हें मुरादाबाद के टीएमयू अस्पताल ले गए। गुरुवार देर रात में मौत होने पर बेटे ने शव घर लाने के लिए कहा तो चिकित्सकों ने कोरोना संदिग्ध बताते हुए शव देने से इन्कार कर दिया। इधर, हसनपुर के चिकित्सा अधीक्षक्र, थाना सैदनगली पुलिस को लेकर अस्पताल पहुंच गए। शुक्रवार को दोपहर बाद पुलिस मौजूदगी में तिगरी गंगा तट पर उनका अंतिम संस्कार किया गया। कोरोना वायरस होने की आशंका के चलते शव से परिजनों को दूर रखा गया। मृतक ने अपने पीछे पत्नी के अलावा इकलौते पुत्र को छोड़ा है। सैदनगली के थाना प्रभारी राजीव शर्मा ने बताया सुरक्षा की ²ष्टि से दो कांस्टेबल भेजे गए थे। पुलिस की मौजूदगी में अंतिम संस्कार किया गया है। आबादी के नजदीक शव का वाहन रोकने पर ग्रामीणों ने जताई नाराजगी

गजरौला : शुक्रवार की दोपहर गंगा तट पर कुछ शवों को अलग-अलग दाह संस्कार चल रहा था। इसी दौरान 108 एंबुलेंस से एक शव पहुंचते ही ग्रामीणों में खलबली मच गई। एंबुलेंस के साथ एक अन्य एंबुलेंस से चिकित्सा विभाग के लोग पहुंचे। वहीं पुलिस की गाड़ी भी थी। कोरोना आशंकित का शव अंतिम संस्कार को लाए जाने पर ग्रामीण जुट गए। आबादी के नजदीक वाहन रोकने पर ग्रामीणों ने नाराजगी भी जताई। इसके बाद शव को दूर ले जाया गया। तिगरी के पुरोहित पंडित गंगा सरन शर्मा व ग्रामीण राकेश ने बताया कि मेला स्थल की तरफ एंबुलेंस को ले जाया गया जो गांव से दो किमी के फासले पर है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस