गजरौला: गांव ओसिता जगदेपुर में शौच को निकले 12 वर्षीय छात्र को गला दबाकर मौत के घाट उतार दिया गया। उसका शव गांव में ही रेलवे ट्रैक के किनारे झाड़ियों में मिला। पुलिस ने शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। उधर, फोरेंसिक टीम ने घटनास्थल पर पहुंचकर साक्ष्य जुटाए हैं। एसपी ने भी मौका मुआयना कर परिजनों से जानकारी की है।

गांव निवासी विजेंद्र सिंह का पुत्र अमित कक्षा सात का छात्र था। वह गांव मोहम्मदाबाद स्थित शफीक सैफी जूनियर हाईस्कूल में पढ़ता था। वह रोजाना की तरह गुरुवार की सुबह छह बजे शौच के लिए गया था। उसके बाद घर नहीं लौटा। स्कूल का समय होने पर परिजनों ने उसकी तलाश शुरू की। गांव के मंदिर में लगे लाउडस्पीकर से भी कई बार एलान कराया लेकिन, कोई सुराग नहीं लगा। दोपहर करीब 12 बजे छात्र के चाचा सुरेंद्र कुमार, जीतपाल व कुलदीप दिल्ली रेलवे लाइन के नजदीक झाड़ियों की तरफ पहुंचे तो देखा कि छात्र का शव झाड़ियों में पड़ा है। इससे उनके होश उड़ गए। चीख-पुकार सुनकर गांव के लोगों की भीड़ जुट गई। ग्रामीणों के मुताबिक शव के पास से एक ब्लेड व चाकू भी पड़ा मिला था। एक हाथ की तीन उंगलियां भी थोड़ी-थोड़ी कटी हुईं थीं। उसकी दोनों चप्पल झाड़ियों के ऊपर टंगी हुईं थी। शव झाड़ियों के अंदर था। जैसे मारने के बाद उसे अंदर छिपाया गया हो। उसके गले पर नाखूनों के निशान लगे थे, जो मासूम छात्र का गला दबाकर हत्या करने की आशंका को जन्म दे रहे थे। बाद में परिजन शव घर ले गए। उधर, पुलिस मौके पर पहुंच गई और परिजनों को समझाकर शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। फारेंसिक टीम ने घटनास्थल पर पहुंचकर साक्ष्य जुटाए हैं। बाद में पुलिस अधीक्षक डॉ विपिन ताडा ने घटनास्थल का जायजा लिया।

बुलाई फोरेंसिक टीम

छात्र का शव रेलवे ट्रैक किनारे झाड़ियों में बरामद किया गया है। जांच के लिए फॉरेसिंक टीम भी बुलाई गई थी। मृतक के शरीर पर कोई ऐसा निशान नहीं मिला है जिससे उसकी मौत का अंदाजा लगाया जा सके। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही मौत का कारण स्पष्ट हो पाएगा। परिजनों से भी पूछताछ की जा रही है। डीके शर्मा, प्रभारी निरीक्षक, गजरौला।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप