गजरौला (अमरोहा) : कार सवार युवकों ने चालीस किमी निजी बस का पीछा करने के बाद उसमें तोड़फोड़ स्त्रद्ध। पुलिस ने चालक की तहरीर पर मुकदमा कायम कर लिया है। रिपोर्ट में घटना का कारण महज पांच सौ रुपये नहीं देने का विवाद बताया है।

पिछले दिनों ब्रजघाट पुलिस ने हाईवे पर दौड़ने वाली कुछ चुनिदा बसों के खिलाफ अभियान चलाकर कार्रवाई की थी, लेकिन यह बसें अभी भी नेशनल हाईवे पर धड़ल्ले से दौड़ रहीं है। शाहजहांपुर के रोजा थाना क्षेत्र के ग्राम बलिया निवासी मोहन लाल का पुत्र राहुल भी एक निजी बस चलाता है, जो दिल्ली से सवारियां भरकर लाता है।

उसका कहना है रविवार की रात साढ़े नौ बजे वह दिल्ली से लौट रहा था। हेल्पर के तौर पर अंशुल साथ था। सवारी लेकर लौटते समय उन्हें हापुड बाईपास पर रोक कर कुछ युवकों ने पांच सौ रुपये की मांग की। उसने यह रकम नहीं दी और गाड़ी दौड़ा दी। आरोप है संबंधित युवक भी कार से उसके पीछे लग गए। कार सवार इन युवकों ने गजरौला में भानपुर रेलवे फाटक पर पहुंचकर गाड़ी को रोक लिया। इसके बाद चालक व अन्यों के साथ मारपीट करते हुए उनकी बस के शीशे तोड़ डाले। इसके बाद जान से मारने की धमकी देते हुए फरार हो गए। इसके बाद पीड़ित ने थाने पहुंचकर पुलिस को तहरीर दी।

प्रभारी निरीक्षक आरपी शर्मा ने बताया सोमवार को उसकी तहरीर के आधार पर रिपोर्ट कायम कर नामजद आरोपितों व अन्यों की तलाश शुरू कर दी गई है। नामजद आरोपितों में हापुड़ के गांव मजीरपुर निवासी चौधरी असलम, उसका पुत्र टीपू, पिटू, साथी मनोज, किठोर के शाहजहांपुर क्षेत्र का काले शामिल हैं। बाकी इनके कुछ साथी अज्ञात बताए हैं।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस