अमेठी: दिछौली गांव से गुमशुदा श्रेयांस को लुधियाना से सकुशल बरामद किया गया। गुरुवार को कप्तान दिनेश सिंह ने थाना परिसर में घटना का राजफाश किया है। वहीं, गायब बच्चे को पाकर परिवार खुशी से झूम उठा। पुलिस के प्रयास की परिवार के साथ समाज के लोग भी सराहना कर रहे हैं।

पुलिस अधीक्षक ने बताया कि श्रेयांश की बरामदगी के लिए कई टीम लगाई गई थी। जिसकी प्रगति रिपोर्ट प्रतिदिन ली जा रही थी। उन्होंने बताया कि बिना किसी को बताए मोटर साइकिल से लिफ्ट लेकर निहालगढ़ रेलवे स्टेशन से बेगमपुरा ट्रेन से दिव्यांग डिब्बे में बैठकर लखनऊ पहुंचा।उसी डिब्बे में जयशंकर मांझी जिला सोनभद्र नाम का लड़का मौजूद था। जिससे गुमशुदा ने बताया कि मेरे मां और पिता की मौत हो गई है। मुझे कोई सहारा नहीं दे रहा है। इस पर दया आने पर जयशंकर उपरोक्त गुमशुदा को मानवता के कारण लुधियाना पंजाब ले जाने के लिए राजी हो गया। वहीं से एक अज्ञात मोबाइल नंबर से घर के मोबाइल नंबर पर फोन आया। उस नंबर पर शक हुआ। परिवारजन के द्वारा बताए जाने पर उक्त नंबर का सर्विलांस के माध्यम से लोकेशन प्राप्त कर लुधियाना पंजाब से गुमशुदा को बरामदगी करने में सफलता प्राप्त हुई। जयशंकर कामधेनु स्पिनिग मिल थाना कोमकला लुधियाना पंजाब में काम करता है। उसने अपने आवास में ही लड़के को रखा था। जहां से पुलिस ने बरामद किया। गुमशुदा का बयान दर्ज करके विधिक कार्रवाई की जा रही है। पुलिस अधीक्षक ने कोतवाल अरुण द्विवेदी की टीम की सराहना की है। इस मौके पर सीओ मनोज कुमार यादव, एसएसआई संतोष त्रिपाठी, अखंड देव मिश्रा आदि मौजूद रहे।

व्यापारियों ने पुलिस अधीक्षक का किया सम्मान

श्रेयांश उर्फ पीयूष की बरामदगी से खुश होकर व्यापारियों ने पुलिस अधीक्षक दिनेश सिंह, सीओ मनोज कुमार को माला पहनाकर व अंग वस्त्र देकर सम्मानित किया। इस मौके पर प्रमुख प्रतिनिधि राकेश विक्रम सिंह, बिहारी सेठ, राजकुमार अग्रवाल, डीसी कौशल, डा. राम गोपाल माहेश्वरी, राकेश तिवारी, सोनू यगसैनी सहित क्षेत्र के संभ्रांत लोग मौजूद रहे।

Edited By: Jagran