अमेठी (जेएनएन)। इलाहाबाद बैंक के सुलतानपुर शहर की मुख्य शाखा से सोमवार सुबह बीस लाख कैश लेकर अमेठी की ज्ञानीपुर शाखा आ रहे कार सवार बैंक कर्मियों से बाइक सवार दो बदमाशों ने लूट का प्रयास किया। बदमाशों ने बाबूगंज बाजार में कार को ओवरटेक कर ताबड़तोड़ फायरिंग की। इसमें बैंक के सहायक शाखा प्रबंधक व कार चालक गंभीर रूप से घायल हो गए। हालांकि शाखा प्रबंधक की सूझबूझ से बदमाश कैश नहीं ले जा सके।

पुलिस के अनुसार ज्ञानीपुर शाखा के शाखा प्रबंधक अंकित रावत, सहायक शाखा प्रबंधक राघवेंद्र माथुर और बैंक कैशियर अजय सिंह कार से बीस लाख कैश लेकर आ रहे थे। इसी बीच इलाहाबाद-फैजाबाद हाईवे पर रामगंज बाजार के पास बाइक सवार दो बदमाशों ने कार पर फायरिंग शुरू कर दी। कार चालक रामपाल ने बाइक सवार बदमाशों को ओवरटेक नहीं करने दिया।

सहायक शाखा प्रबंधक राघवेंद्र माथुर डायल 100 पर पुलिस को सूचना दे ही रहे थे कि तीन किलोमीटर से फायरिंग करते हुए पीछा कर रहे बदमाशों ने बाबूगंज बाजार में कार को ओवरटेक कर रोक लिया और ताबड़तोड़ फायरिंग शुरू कर दी। इसमें तीन गोलियां कार चालक रामपाल को लगीं। फोन पर बात करते देख बदमाशों ने सहायक प्रबंधक राघवेंद्र माथुर के हाथ में गोली मारी। घटना में दोनों गंभीर रूप से घायल हो गए।

इसी बीच शाखा प्रबंधक अंकित रावत ने अपने कपड़ों व कागजों से भरा बैग बदमाशों को थमा दिया। उसे कैश समझकर बदमाश भाग निकले। मौके पर पहुंची पुलिस घायलों को सुलतानपुर जिला अस्पताल ले गई। वहां चालक रामपाल की हालत गंभीर होने पर उसे ट्रामा सेंटर लखनऊ रेफर कर दिया गया। एसपी ने बताया कि बदमाशों की गिरफ्तारी के लिए टीमें लगाई गई हैं। घटनास्थल से सुबूत जुटाए जा रहे हैं।

डिक्की में रखे थे इसलिए बच गए रुपये : बदमाशों को पहले से कार में कैश होने की बात पता थी, लेकिन उन्हें यह नहीं पता था कि कैश कार की डिक्की में रखा है। शाखा प्रबंधक अंकित रावत ने साहस दिखाते हुए कैश के बजाय कार की सीट पर रखा अपना कपड़ों और कागजों से भरा बैग बदमाशों को पकड़ा दिया और वे उसे कैश समझकर ले भागे।

 

Posted By: Ashish Mishra