अंबेडकरनगर : अयोध्या-आजमगढ़ राज्यमार्ग पर स्थित अहिरौली थाना क्षेत्र का तिवारीपुर तिराहा डेथ जोन बन गया है। एक वर्ष के आंकड़ों पर नजर डाली जाए तो यहां करीब डेढ़ दर्जन जिदगियां असमय काल कवलित हो चुकी है। करीब तीन दर्जन लोग घायल होकर जिदगी से संघर्ष कर रहे हैं। ऐसा पुलिस, परिवहन और लोक निर्माण विभाग की लापरवाही के चलते हुआ है। फिलहाल जिम्मेदार विभाग इस गंभीरता से बेफिक्र बने हैं।

तिराहा अहिरौली थाने से पांच किलोमीटर दूर अकबरपुर मार्ग पर स्थित है। यह क्षेत्र के अति व्यस्ततम तिराहों में शुमार है। यहां से चीनी मिल को जोड़ने वाले मिझौड़ा मार्ग का शुरू होता है। नतीजतन 24 घंटे गन्ना लदी ट्रैक्टर-ट्रालियों, ट्रकों, चारपहिया, दोपहिया वाहनों का आवागमन रहता है। भीटी तहसील मुख्यालय को भी यह मार्ग जोड़ता है। इसी तिराहे पर आठ माह पहले सड़क हादसे में सुल्तानपुर जिले के निवासी राजेंद्र गिरी व उनकी बहन सीमा की दर्दनाक मौत हो गई। दो लड़कियों अर्पिता तथा अदिति गंभीर रूप से घायल हो गई। चंद कदम दूर बस पलटने से दो महिलाओं की मौत व दर्जनभर यात्री घायल हो गए। छह माह पूर्व ट्रक और कार की टक्कर से दो लोगों की मौत हुई थी। जबकि ट्रक पलटने से उसके नीचे दबकर एक युवक की मौत हो गई। तिराहे के पास स्थित पुलिया में टकराने से स्कार्पियों पलटने से आजमगढ़ निवासी दो लोगों की मौत हो गई। जबकि मोटरसाइकिल तथा चारपहिया वाहन के टकराने से भीटी थाना क्षेत्र की खोजातपुर निवासी दंपत्ति की दर्दनाक मौत हो गई।

इसके अलावा दर्जनों दुर्घटनाओं में करीब तीन दर्जन लोग घायल हो चुके हैं। इन हादसों के पीछे वाहन विभागों के अलावा चालक, व दुर्घटना का शिकार हुए लोग भी दोषी है। आंकड़ों पर नजर डाली जाए तो 99 फीसद दुर्घटनाएं हेलमेट नहीं लगाने और यातायात नियमों की अनदेखी से होती हैं। पुलिस विभाग प्रतिवर्ष आयोजित सड़क सुरक्षा अभियान के तहत लोगों को यातायात नियमों का पाठ पढ़ाया जाता है।

-------

पुलिस की तरफ से दुर्घटनाओं को रोकने की दिशा में हरसंभव प्रयास किया जाता है। वाहन चेकिग के दौरान यातायात नियमों का पालन नहीं करने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जाती है। पुलिस महकमा दुर्घटनाओं को रोकने की दिशा में सक्रिय है।

वीके श्रीवास्तव

सीओ, भीटी

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप