इलाहाबाद (जागरण संवाददाता)। फिल्म 'पा' में अमिताभ बच्चन ने प्रोजेरिया की जिस बीमारी का जीवंत रूप दिखाया था उस बीमारी से इलाहाबाद के झूंसी में पीड़ित 21 वर्षीय रूपेश के इलाज को जिला प्रशासन ने पहल की है। जिलाधिकारी संजय कुमार ने रूपेश के गरीब परिवार की मदद को हाथ बढ़ाया है। उसके इलाज से लेकर आवास, राशन और आर्थिक मदद भी जिलाधिकारी ने शुरू करा दी है।

झूंसी क्षेत्र में सराय इनायत धनैचा के निवासी रमापति भारतीया के परिवार में पांच बच्चे हैं। जिसमें से 21 वर्षीय रूपेश प्रोजेरिया से पीड़ित है। देखने में 'पा' की प्रतिमूर्ति नजर आने वाले इस युवक की लंबाई महज 98 सेंटीमीटर और वजन केवल 10 किलोग्राम ही है। 2015 में मेडिकल कॉलेज ने इसका प्रमाणपत्र भी जारी किया था।

मगर उसकी ढंग से देखभाल नहीं हो पा रही थी। आशुतोष मेमोरियल ट्रस्ट के मैनेजिंग ट्रस्टी डॉ. गिरीश पांडेय ही इस मरीज और उसके परिवार की आर्थिक मदद व इलाज का इंतजाम कराते रहे थे।

यह भी पढ़ें: अच्छी खबर: लखनऊ के केजीएमयू में घटा शुल्क, मरीजों को मिलेगी राहत

'दैनिक जागरण' ने 16 जनवरी 2017 के अंक में रूपेश की कहानी को प्रमुखता से प्रकाशित किया था। इसके बाद डॉ. गिरीश ने स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह से भी इस मरीज की कहानी  बयां की। मंगलवार को जिलाधिकारी संजय कुमार ने मरीज रूपेश की मेडिकल कॉलेज में जांच करवाई जिसमें सिटी स्कैन आदि भी करवाया गया।

जिलाधिकारी ने पीड़ित परिवार को मुख्यमंत्री राहत कोष से आर्थिक मदद दिलाने की तैयारी शुरू कर दी है। साथ ही परिवार का राशन कार्ड और आवास दिलाने के निर्देश भी जारी कर दिए हैं।

यह भी पढ़ें: पेट्रोल चोरी पर सरकार का डंडा, होगी प्रदेश के 6000 पंपों की जांच

Posted By: amal chowdhury