प्रयागराज, जेएनएन। UPPSC RO/ARO Exam 2017 : उत्तर प्रदेश लोकसेवा आयोग (UPPSC) ने लंबी प्रतीक्षा के बाद आरओ-एआरओ यानी समीक्षा अधिकारी/सहायक समीक्षा अधिकारी (सामान्य व विशेष चयन/बैकलॉग) परीक्षा 2017 का अंतिम रिजल्ट जारी कर दिया है। यूपीपीएससी की ओर से मंगलवार शाम को घोषित रिजल्ट में 809 पदों के सापेक्ष 663 अभ्यर्थियों का ही चयन किया गया है, वहीं योग्य अभ्यर्थी न मिलने के कारण 146 पद खाली रह गए हैं। आयोग उक्त पदों को भरने के लिए नए सिरे से प्रक्रिया शुरू करेगा।

उत्तर प्रदेश लोकसेवा आयोग की ओर से निकाली गई आरओ-एआरओ 2017 भर्ती परीक्षा के लिए 5,33,447 आवेदन हुए थे। इसकी प्रारंभिक परीक्षा आठ अप्रैल, 2018 को आयोजित हुई। उत्तर प्रदेश के 21 जिलों के 1146 केंद्रों पर हुई परीक्षा में 3,40,121 अभ्यर्थी शामिल हुए थे। प्रारंभिक परीक्षा का परिणाम 14 दिसंबर, 2018 को जारी हुआ। उसमें 15,342 अभ्यर्थी सफल हुए थे, इसके बाद मुख्य परीक्षा 17, 18 व 20 फरवरी, 2019 को कराई गई। इस परीक्षा में 10,643 अभ्यर्थी शामिल हुए थे। इसके बाद एआरओ पद पर चयन के लिए 837 अभ्यर्थियों का टाइपिंग टेस्ट 18 जनवरी व 29 फरवरी 2020 को लिया गया।

इस भर्ती परीक्षा में सामान्य चयन में सम्मिलित 804 पदों के सापेक्ष 662 अभ्यर्थी तथा विशेष चयन की पांच पदों के सापेक्ष एक अभ्यर्थी को औपबंधिक रूप से सफल घोषित किया गया है। सामान्य चयन में 142 व विशेष चयन की चार पदों पर योग्य अभ्यर्थी नहीं मिले। आयोग के सचिव जगदीश ने बताया कि औपबंधिक रूप से सफल अभ्यर्थियों के मूल प्रमाण पत्र सत्यापन के बाद सही पाए जाने पर संस्तुति पत्र प्रेषित किया जाएगा। रिजल्ट हाईकोर्ट में दाखिल याचिकाओं के अंतिम निर्णय के अधीन रहेगा।

टाइपिंग टेस्ट पूरा होते ही आया रिजल्ट

यूपीपीएससी ने इस भर्ती में प्रारंभिक परीक्षा के 10 माह बाद मुख्य परीक्षा कराई और टाइपिंग टेस्ट के लिए अभ्यर्थियों को एक साल इंतजार करना पड़ा। इसमें हाईकोर्ट के आदेश पर 60 अभ्यर्थियों की टाइपिंग परीक्षा 29 जनवरी को हुई थी। हालांकि टाइपिंग टेस्ट पूरा होते ही आयोग ने रिजल्ट जारी कर दिया।

लखनऊ में हुई थी मुख्य परीक्षा

यूपीपीएससी की आरओ/एआरओ मुख्य परीक्षा 2017 पिछले वर्ष लखनऊ में कराई गई थी। परीक्षा में उन्हीं अभ्यर्थियों को शामिल होने का अवसर मिला था जिन्होंने प्रारंभिक परीक्षा के ऑनलाइन आवेदन में किए गए दावों और मुख्य परीक्षा के लिए दी गई सूचना 31 जनवरी, 2018 तक निर्धारित अर्हता के अनुसार ही दी थी। मुख्य परीक्षा के दौरान कुंभ मेले होने के कारण यूपीपीएससी ने प्रयागराज में परीक्षा केंद्र नहीं बनाए थे। पहली बार सिर्फ लखनऊ जिले में ही इम्तिहान हुआ था।

Posted By: Umesh Tiwari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस