प्रयागराज, जागरण संवाददाता। नकली नोट खपाने वाले गैंग के दो गुर्गों को एसटीएफ ने गुरुवार अपराह्न छिवकी रेलवे स्टेशन के बाहर से गिरफ्तार किया। इनके पास से दो हजार के 170 नकली नोट बरामद हुए, जो 3.40 लाख रुपये थे। पूछताछ में पता चला कि जाली नोट वह पश्चिम बंगाल से लेकर आए थे और इसे प्रयागराज, प्रतापगढ़ में खपाना था।

एसटीएफ के सीओ नवेंदु कुमार को गुरुवार को दिन में जानकारी मिली कि नकली नोट चलाने वाले गैंग के कुछ गुर्गे छिवकी रेलवे स्टेशन पर पहुंचने वाले हैं। जिस पर स्टेशन के बाहर मुख्य सड़क पर घेराबंदी कर दी गई।  करीब तीन बजे दो लोग बैग लेकर जैसे ही मुख्य सड़क पर पहुंचे उनको पकड़ लिया गया। नैनी थाने ले जाकर बैग की तलाशी ली गई तो उसमें दो हजार के 170 नकली नोट मिले। दोनों ने अपना नाम मदन लाल निवासी महेशपुर, थाना लालगंज, जनपद प्रतापगढ़ व बबलू चौरसिया निवासी थम्मन का पुरवा कल्यानपुर थाना मऊआइमा बताया।

जानिए कैसे करते थे जाली नोट का धंधा

पूछताछ में मदनलाल ने बताया कि गांव में अच्छे लाल चौरसिया के साथ मिलकर वह नकली नोट का धंधा करता था। पश्चिम बंगाल मे नकली नोट तस्करी करने वाले गैंग के सरगना दीपक मंडल, उसके रिश्तेदार एवं सहयोगी सुभाष मंडल व बहनोई विश्वजीत सरकार से कई बार वह नकली नोट ला चुका था। आठ अगस्त को अच्छे लाल के कहने पर उसके साढ़ू के पुत्र बबलू चौरसिया के साथ नकली नोट लाने के लिए मालदा पश्चिम बंगाल गया था। वहां 1.36 लाख रुपये के असली नोट सुभाष मंडल को दिए। इसके बदले उसने और विश्वजीत सरकार ने दो-दो हजार के 170 नकली नोट दिए, जो 3.40 लाख रुपये थे। ट्रेन से वह छिवकी रेलवे स्टेशन आए थे। स्टेशन के बाहर अच्छे लाल और उसके सहयोगी विशाल उर्फ आकाश मिलने वाले थे। सीओ नवेंदु कुमार ने बताया कि वर्ष 2015 और 2019 में अच्छे लाल चौरसिया को नकली नोट के साथ गिरफ्तार किया गया था। इस समय वह जमानत पर जेल से बाहर है। उसकी और विशाल की तलाश में दबिश दी जा रही है।

ये की गई बरामदगी

-3.40 लाख रुपये।

-01 आधार कार्ड।

-01 डेबिट कार्ड।

-02 मोबाइल।

-3.300 हजार रुपये नकद

Edited By: Ankur Tripathi