प्रयागराज, जेएनएन। मऊआइमा में बड़ौदा पूर्वी उत्तर प्रदेश ग्रामीण बैंक की शाखा में नकाबपोश कैश काउंटर से करीब पांच लाख रुपये लूट लिए। बदमाशों ने फायरिंग कर बैंक में मौजूद लोगों को दहशत में ला दिया। मारपीट एक एक वृद्ध को जख्‍मी भी किया। सुराग उनका नहीं लगा है। वहीं गंगा और यमुना नदियों के लगातार बढ़ते जलस्‍तर से बाढ़ की खतरा अन्‍य इलाकों में भी बढ़ गया है। इसी क्रम में प्रदेश के डिप्‍टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने हेलीकाप्‍टर से बाढ़ प्रभावित इलाकाें का सर्वे किया। अधिकारियों को निर्देशिभी किया।

नकाबपोश बदमाशों ने बैंक में फायरिंग कर पांच लाख लूटे

मऊआइमा के मियां जी के पूरा मोहल्ला स्थित बड़ौदा पूर्वी उत्तर प्रदेश ग्रामीण बैंक की शाखा में अपाचे सवार बदमाशों ने दोपहर में धावा बोला। बदमाश पांच राउंड फायर कर कैश काउंटर से नकदी लूट ले गए। घटना के समय बैंक में दर्जनों की तादाद में ग्राहक मौजूद थे। बदमाशों ने चेहरे ढंक रखे थे। बैंक में घुसते ही फायरिंग शुरू कर दी तथा ग्राहकों को जमीन पर लेट जाने की धमकी दी। डरे सहमें ग्राहक जमीन पर लेट गए। इसके बाद बदमाश आराम से कैश काउंटर पर रखा नकदी लेकर भाग निकले। कैशियर के अनुसार लगभग पांच लाख लूट बताई जा रही है। कैश मिलान के बाद सही जानकारी हो सकेगी। सीओ सोरांव अमित श्रीवास्तव घटनास्थल पर पहुंचे। मऊआइमा इंस्पेक्टर व पुलिस कर्मी बदमाशों का पीछा करते हुए तिलई बाजार तक गए लेकिन कोई हाथ न लगा।

गंगा और यमुना के विकराल होने से शहर में बाढ़ का खतरा बढ़ा

राजस्थान और मध्य प्रदेश के बांधों से छोड़़े गए पानी से उफनाई गंगा यमुना कहर ढाने लगी हैं। खतरे के निशान से लगभग आधा मीटर ऊपर बह रहीं गंगा और यमुना से शहर में बाढ़ का खतरा बढ़ गया है। कई और मोहल्लों में बाढ़ का पानी घुस गया है। अब तक शहर के 38 और लगभग डेढ़ सौ गांव बाढ़ की चपेट में हैैं। लगभग साढ़े तीन लाख लोग प्रभावित हैैं। लगभग 42 हजार एकड़़ फसलें जलमग्न हो गई हैैं। प्रशासन का अनुमान है कि 16 हजार मकान डूब चुके हैैं। शहर में बनाए गए दस राहत शिविरों में लगभग तीन हजार लोग शरण लेकर रह रहे हैैं। जिला प्रशासन ने टीमें गठित कर राहत कार्य तेज करा दिया है। एनडीआरएफ, एसडीआरएफ व जल पुलिस की टीमें लगाई गई हैैं। गुरवार को मंडलायुक्त डॉ आशीष कुमार गोयल ने नैनी और झूंसी इलाके का जायजा लिया।

डिप्‍टी सीएम केशव ने बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का किया हवाई सर्वे

उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का गुरुवार दोपहर बाद हेलीकाप्टर से हवाई सर्वेक्षण किया। बाद में स्टीमर से भी कई इलाकों का भ्रमण किया। बाढ़ से बेहाल मोहल्लों व गांवों को देखने के बाद वह सर्किट हाउस पहुंचे। बाढ़ पीड़ितों की सहायता को लेकर की गई की तैयारियों की समीक्षा करते हुए उन्होंने अफसरों को राहत पहुंचाने के निर्देश दिया। कहा कि बाढ़ पीड़ितों को हर संभव राहत और मदद उपलब्ध कराई जाए। इसमें तेजी के लिए मैन फोर्स बढ़ाने को भी कहा।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस