प्रयागराज : छात्रसंघ भवन और बैंक अब इलाहाबाद केंद्रीय विश्वविद्यालय की आर्ट फैकल्टी से अलग होगा। शैक्षिक माहौल को और बेहतर बनाने के लिए परिसर में ऊंची दीवार बनाकर छात्रसंघ भवन व बैंक को अलग किया जाएगा। हॉस्टल में कोई भी बाहरी छात्र रात में नहीं रुक पाएगा और लाइब्रेरी में रात नौ बजे तक ही प्रवेश होगा। इसके अलावा कुछ और भी व्यवस्था बनाई जा रही है, जिससे विश्वविद्यालय व हॉस्टलों की सुरक्षा-व्यवस्था बेहतर हो सकेगी।

हॉस्टलों से अवैध अंत:वासियों को बाहर करने का अभियान चला
विश्वविद्यालय के पूर्व छात्र रोहित शुक्ला को गत दिनों पीसीबी हॉस्टल में गोलियों से भून दिया गया था। सनसनीखेज अंदाज में हुई इस वारदात से पूरे जिले में सनसनी फैल गई थी। कानून-व्यवस्था और विश्वविद्यालय की स्थिति पर हाईकोर्ट ने नाराजगी जताते हुए जमकर फटकार लगाई थी। इसके बाद पुलिस व विश्वविद्यालय प्रशासन ने हॉस्टलों से अवैध अंत:वासियों को बाहर करने का अभियान चलाया है।

हॉस्टलों को अपराधियों से मुक्त करने की विस्तृत योजना
हालांकि इलाहाबाद हाईकोर्ट इस पूरी कार्रवाई व हलफनामे पर संतुष्ट नहीं है। ऐसे में विश्वविद्यालय परिसर व हॉस्टलों को अपराध और अपराधियों से पूरी तरह मुक्त करने की विस्तृत कार्य योजना तैयार की गई है। पुलिस, प्रशासन व विश्वविद्यालय के अफसरों द्वारा तैयार किया गया मसौदा फिलहाल कुलपति को भेज दिया गया है।

बोले एडिशनल एसपी
एडिशनल एसपी श्रीशचंद्र ने बताया कि विश्वविद्यालय परिसर और हॉस्टलों में सुरक्षा को लेकर कमेटी ने व्यापक कार्य योजना तैयार की है। इससे पढ़ाई का माहौल और बेहतर होने के साथ आपराधिक प्रवृत्ति के छात्रों के परिसर में प्रवेश पर भी अंकुश लग सकेगा।

गंभीर अपराध पर डिग्री होगी निरस्त
हत्या, लूट और रंगदारी मांगने जैसे गंभीर अपराध करने पर विश्वविद्यालय के छात्र की पुरानी डिग्री भी निरस्त कर दी जाएगी। इतना ही नहीं अगर किसी छात्र के खिलाफ मुकदमा दर्ज होने के बाद पुलिस कोर्ट में चार्जशीट दाखिल करती है तो उसको तत्काल प्रभाव से विश्वविद्यालय से निष्कासित कर दिया जाएगा।

मेस का खाना रहेगा अनिवार्य
 हॉस्टल में रहने वाले अंत:वासियों के लिए मेस का खाना अनिवार्य रहेगा। इसके लिए उनसे पैसा भी एडवांस लिया जाएगा। यदि कोई अंत:वासी यह कहता है कि वह मेस का खाना नहीं खाएगा तो कमरे का आवंटन रद कर दिया जाएगा। मेस संचालन के लिए स्थायी कर्मचारियों की नियुक्ति होगी।

हॉलैंड हॉल के लिए अलग व्यवस्था
हॉस्टल की तीन श्रेणियां बनाई गई हैं। इसमें विश्वविद्यालय की ओर से संचालित होने वाले पुरुष व महिला छात्रावास और ट्रस्ट के हॉस्टल हैं। हॉलैंड हॉल छात्रावास में सुरक्षा और सुविधा के लिए अलग से व्यवस्था की जाएगी। बाकी के हॉस्टलों में अनुमति लेकर अंत:वासी कूलर व बाइक रख सकेंगे। छात्रावासों में चार पहिया वाहन पूरी तरह प्रतिबंधित रहेंगे।

गेट पर गार्द रूम, आइकार्ड से एंट्री
 विश्वविद्यालय में प्रवेश के लिए दो मुख्य गेट रहेगा, जहां सीसीटीवी कैमरा के साथ गार्दरूम होगा। एक गेट छात्रों के लिए और दूसरा स्टॉफ व अन्य के लिए होगा। पहचान पत्र से छात्रों की एंट्री होगी। विजिटर्स के लिए पहचान पत्र देखकर एंट्री स्लिप दी जाएगी। हॉस्टल के निकास और प्रवेश द्वार के अलावा सभी अन्य रास्तों को बंद कर दिया जाएगा। हॉस्टलों के चारों ओर 10 फीट ऊंची बाउंड्री बनाई जाएगी।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप