प्रयागराज, जेएनएन। भाजपा के चिकित्सा प्रकोष्ठ के प्रदेश संयोजक डॉ. एलएस ओझा ने प्रयागराज में कहा कि भारतीय राजनीति नकारात्मक हो चली है। सत्ता पक्ष का विरोध करते करते लोग राष्ट्र विरोधी भी हो चुके हैं। यह शुभ संकेत नहीं है। इस प्रवृत्ति से बचना होगा। जल्द सही इसे लेकर कोई ठोस कदम भी उठाना होगा। ऐसा न करने पर बड़ा नुकसान हो सकता है। देश फिर विखंडन की ओर बढ़ेगा।

कार्यकर्ताओं संग भाजपा नेता ने बैठक की

भाजपा नेता डॉ. एलएस ओझा ने प्रयागराज के जार्जटाउन स्थित अपने निवास पर कार्यकर्ताओं के साथ बैठक की। उन्‍होंने कहा कि लंबी गुलामी के बाद हम सब ने आजादी का सूरज देखा। जाने कितने लोग बलिदान हो गए। उसके बाद यह लोकतंत्र का उपहार मिला। दुर्भाग्य है कि हम सब फिर से लालच और निजी स्वार्थ में घिर रहे हैं। ऐसा ही पहले हुआ था, जिसका परिणाम देश को दास्ता की बेडिय़ों से जकड़ दिया गया। आज के परिप्रेक्ष्य में देखें तो समूचा विपक्ष सिर्फ कुर्सी के लिए एकजुट हो रहा है। मुद्दे, जनहित के मसलों पर किसी का ध्यान नहीं है। सत्ता पक्ष का विरोध गलत नहीं है लेकिन उसकी एक सीमा और गरिमा का भी ध्यान रखना चाहिए।

नैतिक मूल्यों का पतन रोकना होगा : राजेंद्र त्रिपाठी

राष्ट्रीय सनातन सेना के राष्ट्रीय सचिव राजेंद्र कुमार त्रिपाठी का कहना है कि स्वच्छ राजनीति का उदाहरण पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने प्रस्तुत किया था। आज के नेताओं को इससे सीख लेनी चाहिए। वर्तमान परिप्रेक्ष्य में हर कोई सही गलत तरीका अपनाकर कुर्सी हासिल करना चाहता है। नैतिक मूल्यों का पतन हो रहा है। इसे दोबारा स्थापित किए बिना समाज का व राजनीति का भला नहीं होगा।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021