प्रयागराज, विधि संवाददाता। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने नोएडा के कथित गालीबाज श्रीकांत त्यागी को फिलहाल जमानत नहीं दी है। जमानत अर्जी पर राज्य सरकार से तीन हफ्ते में जवाब मांगा है। अर्जी की सुनवाई 17अक्टूबर को होगी। यह आदेश न्यायमूर्ति मयंक जैन ने श्रीकांत त्यागी की जमानत अर्जी पर दिया है।

गैंगस्टर के तहत दर्ज मुकदमे में दाखिल की थी जमानत अर्जी

श्रीकांत त्यागी ने गैंगस्टर के तहत दर्ज मुकदमे में हाईकोर्ट में जमानत अर्जी दाखिल की थी। 3 मुकदमों में सेशन कोर्ट से पहले ही जमानत मिल चुकी है। एक महिला से बदसलूकी के आरोप मे एफआइआर दर्ज कराई गई है।सीनियर एडवोकेट जीएस चतुर्वेदी और अधिवक्ता अमृता राय मिश्रा ने सुनवाई के दौरान पक्ष रखा।

नोएडा में ग्रैंड ओमैक्स सोसायटी में महिला के साथ बदसलूकी करने के आरोपित श्रीकांत त्यागी ने इलाहाबाद हाई कोर्ट में जमानत के लिए अर्जी डाली थी। जस्टिस मयंक जैन की अदालत में जमानत याचिका दाखिल की गई थी। इससे पहले अधीनस्थ न्यायालय ने उसकी जमानत अर्जी खारिज कर दी थी। महिला से बदसलूकी, अभद्रता और मारपीट समेत कई धाराओं में श्रीकांत त्यागी के खिलाफ मुकदमे दर्ज किए गए थे।

उसे एसटीएफ और नोएडा पुलिस ने मेरठ से गिरफ्तार किया था। नोएडा की पॉश सोसाइटी में विवाद के बाद गिरफ्तार श्रीकांत त्यागी नौ अगस्त से जेल में बंद है। अब 44 दिन बाद उसे इलाहाबाद हाईकोर्ट से भी जमानत नहीं मिली हैं। गैंगस्टर एक्ट में त्यागी को हाईकोर्ट ने जमानत देने से इन्कार कर दिया है। बाकी के मामलों में  गौतमबुद्ध नगर की जिला कोर्ट से जमानत मिल चुकी थी।

श्रीकांत त्यागी का पांच अगस्त को महिला से गाली-गलौज करने का वीडियो वायरल हुआ था। मामले के तूल पकड़ते ही पुलिस ने केस दर्ज किया था। यह मामला तब ज्यादा सुर्खियों में आया जब खुद गौतमबुद्ध नगर के सांसद डा. महेश शर्मा सोसायटी पहुंचे और लखनऊ फोन करके पुलिस कमिश्नर की शिकायत कर डाली। वीडियो वायरल होने के बाद से ही आरोपित फरार हो गया था, जिसके खिलाफ गैंगस्टर की कार्रवाई कर 25 हजार का इनाम भी घोषित किया था। आरोपित की गिरफ्तारी मेरठ से हुई थी।

Edited By: Ankur Tripathi