प्रयागराज, जेएनएन। केंद्रीय शिक्षक पात्रता परीक्षा (सीटेट) में भी सॉल्वर बैठाने का खेल पकड़ में आया है। रविवार को आयोजित यह परीक्षा देने के लिए एक केंद्र पर सॉल्वर पहुंचा था। एसटीएफ ने छापामारी कर सॉल्वर को गिरफ्तार कर लिया। पकड़ा गया सॉल्वर देवेंद्र कुमार पाल जौनपुर का रहने वाला है। सॉल्वर गिरोह का मुखिया टीएन पटेल और अभ्यर्थी आशीष पटेल फरार हैं। दोनों के खिलाफ धूमनगंज थाने में मुकदमा दर्ज हुआ है। 

 सूचना पर सक्रिय हुए एसटीएफ अधिकारी 

एसटीएफ के अधिकारियों को सूचना मिली कि सीटेट में भी पेपर आउट कराने, सॉल्वर बैठाने वाले गिरोह सक्रिय हैं। एसटीएफ के एएसपी नीरज पांडेय और सीओ नवेंदु कुमार ने पुराने सॉल्वरों के यहां छापामारी शुरू कर पूछताछ की। सूचना मिली कि सॉल्वर बैठाने का ठेका लेने वाले टीएन पटेल ने सीटेट में सॉल्वरो को ठेका दिलाया है। जांच के बाद रविवार को एसटीएफ ने धूमनगंज थाना क्षेत्र के कालिंदीपुरम इलाके में सैनिक बाल विकास बालिका इंटर कालेज परीक्षा केंद्र पर दबिश देकर देवेंद्र कुमार पाल पुत्र गयादीन पाल निवासी रामपुर, सकरा, मछलीशहर, जौनपुर को गिरफ्तार कर लिया। 

10 साल से गिरोह के लिए काम कर रहा था देवेंद्र

सीओ नवेंदु कुमार के मुताबिक, देवेंद्र 10 साल से मधवापुर, बैरहना में रहकर सॉल्वर बैठाने वाले गिरोह के लिए काम कर रहा था। वह अभ्यर्थी आशीष पटेल पुत्र राम निवास पटेल निवासी मुआर अधारगंज, रानीगंज, प्रतापगढ़ की जगह परीक्षा दे रहा था। सोहबतियाबाग का रहने वाला टीएन पटेल तमाम भर्ती परीक्षाओं में सॉल्वर बैठाने का ठेका लेता है। देवेंद्र पाल को उसने 25 हजार रुपये में दूसरे की जगह परीक्षा देने को तैयार किया था। पांच हजार रुपये एडवांस दिए थे। एसटीएफ की टीम टीएन पटेल और अभ्यर्थी आशीष पटेल की तलाश में दबिश दे रही है।

 

Posted By: Brijesh Srivastava

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप