प्रयागराज, जागरण संवाददाता। शहर के कर्नलगंज थाना क्षेत्र में एलनगंज मोहल्ला निवासी डाक्टर शाश्वत का हत्यारोपित अब तक पकड़ से दूर है। मामले की जांच कर रही केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआइ) दिल्ली की टीम ने फरार अभियुक्त की गिरफ्तारी पर चार साल बाद अब सात लाख रुपये का इनाम घोषित किया गया है। वांछित अभियुक्त डाक्टर सुयश गुप्ता पुत्र हरीश गुप्ता के बारे में सही जानकारी देने वाले शख्स को इनाम की राशि दी जाएगी। साथ ही सूचना देने वाले का नाम गुप्त रखा जाएगा। दिल्ली के सेंट स्टीफेंस हास्पिटल में 24 अगस्त 2019 को डाक्टर शाश्वत की हत्या की गई थी।

माता-पिता के इकलौते पुत्र थे शाश्वत

एलनगंज इलाके में रहने वाले डाक्टर संजय पांडेय और डाक्टर शालिनी पांडेय का इकलौता बेटा शाश्वत था। वह सेंटी स्टीफेंस हास्पिटल एंड कालेज में रेडियोलाजिस्ट की पढ़ाई कर रहा था। उसका रूम पार्टनर जीटी रोड एटा का रहने वाला डाक्टर सुयश गुप्ता था। आरोप है कि सुयश समलैंगिक था। इसी मसले की वजह से उनके बीच विवाद हुआ था। सुयश ने झगड़े के दौरान ही शाश्वत पर सर्जिकल ब्लेड से गला रेतकर हत्या कर दी थी। शाश्वत का शव सीटी स्कैन लैब में मिला था। इस दुखध घटना के बाद स्वजनों ने सुयश के खिलाफ कत्ल का केस दर्ज कराया था, जिसके बाद वह फरार हो गया।

सीबीआइ भी गिरफ्तारी में अब तक है नाकाम

फिर हाईकोर्ट के बाद सीबीआइ दिल्ली की स्पेशल क्राइम ब्रांच ने रिपोर्ट दर्ज कर अभियुक्त की तलाश शुरू की, लेकिन अब तक वह पकड़ में नहीं आया। ऐसे में अब सीबीआइ ने आरोपित के बारे में सुराग देने वालों को सात लाख रुपये का इनाम देने का ऐलान किया है। परिवार के लोगों को अब तक न्याय का इंतजार है। परिवार के लोग चाहते हैं कि उनके बेटे को कातिल कर कठोर सजा दिलाई जाए। तभी उन्होंने संतोष मिल सकेगा।

Edited By: Ankur Tripathi