प्रयागराज, जागरण संवाददाता। सागरपेशा निवासियों के लिए यह अच्छी खबर है। नजूल भूखंडों पर स्थित झुग्गी-झोपड़ी (सागरपेशा) वालों के पुनर्वास के लिए पांच अगस्त 2021 को आश्वासन समिति की बैठक में निर्देश दिए गए थे। उसी क्रम में प्रयागराज में पूर्व में चिन्हित सागर पेशावासियों को सरकारी आवासीय योजनाओं में मकान उपलब्ध कराने पर सहमति बनी है।

इच्छुक हैं तो एक हफ्ते में करें आवेदन

चिन्हित सागरपेशावासियों की सूची प्रयागराज विकास प्राधिकरण, नगर निगम और कलेक्ट्रेट की नोटिस बोर्ड पर चस्पा की गई है। इसमें से जो सागरपेशावासी सरकारी आवासीय योजनाओं में भवन लेने के इच्छुक हों, वह अपनी सहमति एवं आवेदन आधार, पहचान एवं निवास प्रमाण पत्र संबंधी दस्तावेजों के साथ इंदिरा भवन में आठवें तल पर स्थित प्राधिकरण के स्पीड प्वाइंट विंडो पर एक सप्ताह के अंदर उपलब्ध करा सकते हैं। प्राप्त आवेदन अथवा सहमति पत्रों के आधार पर पुनर्वासन के संबंध में गठित समिति द्वारा निर्णय लेने के लिए कार्रवाई की जाएगी। सचिव के मुताबिक उक्त अवधि के बाद सागरपेशावासियों के पुनर्वास संबंधी आवेदन व दावे स्वीकार नहीं किया जाएंगे।

विकास कार्यों में मनमानी की शिकायत

प्रयागराज: सर्वदलीय पार्षद, पूर्व पार्षद संघर्ष समिति के तत्वावधान में एक प्रतिनिधिमंडल शनिवार को मंडलायुक्त कार्यालय में ज्ञापन सौंपा।इसमें वाटर टैक्स की वृद्धि मनमानी तरीके से करने, प्रयागराज विकास प्राधिकरण के चार सदस्यों का चुनाव न कराने, सभी 80 वार्डों में समान रूप से विकास कार्यों का चयन न किए जाने, विकास कार्यों में मनमानी करने समेत कई शिकायतें की गईं।नियमानुसार वाटर टैक्स का निर्धारण करने, चारों सदस्यों का चुनाव कराने, नगर निगम के सभी विभागों में पार्षदों की कमेटी बनाए जाने की मांग भी की गई। प्रतिनिधिमंडल में पूर्व पार्षद शिव सेवक सिंह, पार्षद कमलेश सिंह, आनंद घिल्डियाल, अशोक सिंह, रंजन कुमार, चंद्र प्रकाश गंगा आदि शामिल थे। बैठक स्थगितजासं,प्रयागराज: प्रयागराज विकास प्राधिकरण में नामित किए जाने वाले सदस्यों का चुनाव कराए जाने के कारण 26 अक्टूबर को नगर निगम सदन की बैठक स्थगित कर दी गई। सचिव परिषद पीके मिश्र के मुताबिक बैठक की सूचना अलग से जारी की जाएगी।

Edited By: Ankur Tripathi