प्रयागराज, जेएनएन। प्रतापगढ़ जिले के कोहंड़ौर थाना क्षेत्र के गौरा नहर के पास मदाफरपुर रोड पर रविवार की सुबह सड़क हादसा हो गया। ट्रक ने बाइक सवार दो होमगार्डो को टक्कर मार दी। हादसे में बाइक सवार दो होमगार्डों की मौके पर ही मौत हो गई। सूचना पर पहुंची पुलिस ने शवों को कब्‍जे में ले लिया। दोनों होमगार्ड बाइक से ड्यूटी पर मदाफरपुर बाजार जा रहे थे। पुलिस ने आरोपित ट्रक चालक को हिरासत में ले लिया है। 

दोनों होमगार्ड एक ही बाइक से ड्यूटी पर जा रहे थे

कोहंड़ौर थाना क्षेत्र के लौली पोख्ता गांव के निवासी दुर्गेश प्रसाद ओझा (33) और इसी थाना क्षेत्र के कटारी गांव के देव प्रसाद (45) होमगार्ड थे। दोनों की ड्यूटी रविवार को मदाफरपुर बाजार में लगी थी। थाने से दोनों मदाफरपुर बाजार जाने के लिए एक ही बाइक पर सवार हुए। गौरा नहर के समीप अनियंत्रित ट्रक ने बाइक में टक्‍कर मारी। हादसे में दोनों होमगार्ड बाइक से नीचे गिर गए। उन्‍हें रौंदते हुए ट्रक आगे बढ़ गया। 

ट्रक चालक पुलिस की हिरासत में

हादसे के बाद ट्रक लेकर चालक फरार होने लगा। आसपास के लोगों ने दौड़ाकर ट्रक चालक को पकड़ लिया और पुलिस को सूचना दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने दुर्गेश प्रसाद ओझा और देव प्रसाद के शवों को कब्‍जे में ले लिया। वहीं पुलिस ने चालक को हिरासत में लेकर ट्रक को थाने ले गई। प्रत्‍यक्र्षद‍शी बताते हैं कि बाइक चलाने के दौरान दुर्गेश ने हेलमेट लगा रखा था। परिवार के लोगों को हादसे की जानकारी हुई तो बिलखते हुए वह मौके पर पहुंचे।

संदिग्‍ध हाल में वृद्ध की मौत

प्रतापगढ़ जिले में लालगंज कोतवाली के बाबूतारा सगरासुंदरपुर निवासी मकबूल (65) की संदिग्‍ध दशा में रविवार की सुबह मौत हो गई। इस पर सोशल मीडिया पर दबिश देने गई सांगीपुर पुलिस की पिटाई से वृद्ध के मौत का मामला वायरल हो गया। हालांकि सांगीपुर एसओ प्रमोद सिंह की मानें तो सांगीपुर पुलिस मृतक मकबूल की तलाश में गांव नहीं गई थी। वह अन्य वांछितों की तलाश में गांव गई थी। वहीं कोतवाल लालगंज राकेश भारती के अनुसार मृतक मकबूल हत्या के प्रयास के एक मुकदमे में आरोपित था। उसने अपनी जमानत करा ली थी। देर रात गांव में पुलिस के आने की जानकारी पर वह भय में घर से भाग गया था। पुलिस के जाने बाद घर लौटा और घबराहट में उसकी मौत हो गई। उसके शरीर पर कोई चोट के निशान नहीं मिले हैं। प्रथम दृष्टया हार्ट अटैक से मौत प्रतीत हो रहा है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद मौत का कारण स्पष्ट हो सकेगा।

मकसूद के भाई ने पुलिस पर लगाया आरोप

इधर मामले पर मृतक के भाई मकसूद ने लालगंज कोतवाली में तहरीर देकर कहा है कि शनिवार की रात करीब एक बजे सांगीपुर पुलिस गांव पहुंची। पुलिस को देख उसका भाई मकबूल बगल में भाग गया। कुछ देर बाद सांगीपुर पुलिस उसे ले आई। उसकी हालत गंभीर थी। इसके बाद सांगीपुर पुलिस चली गई। कुछ देर बाद मेरे भाई की मौत हो गई।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस