प्रयागराज : नैनी सेंट्रल जेल में बंद महोबा के कैदी रामहित की किडनी चोरी होने के मामले में जेल प्रशासन ने भी जांच शुरू कर दी है। डीआइजी जेल वीआर वर्मा ने कैदी से पूछताछ के बाद उसका अल्ट्रासाउंड कराया।  

 डीआइजी का कहना है कि रामहित का आइबीपी टेस्ट भी कराया जा रहा था, लेकिन वह इसके लिए तैयार नहीं हुआ। कैदी का कहना है कि उसकी तबीयत ठीक नहीं है। ऐसे में आइबीपी टेस्ट बाद में करा लिया जाएगा। अल्ट्रासाउंड की रिपोर्ट आने पर किडनी चोरी के इस मामले से पर्दा उठ जाएगा।

 महोबा के रहने वाले कैदी रामहित की पत्नी ने मुख्यमंत्री समेत अन्य अफसरों को प्रार्थना पत्र देकर शिकायत किया है कि स्वरूपरानी नेहरू अस्पताल में पथरी के ऑपरेशन के दौरान उसकी एक किडनी चोरी कर ली गई। इस आरोप के बाद जांच का आदेश हुआ। डीआइजी जेल वीआर वर्मा ने कैदी से पूछताछ की। इसके बाद पुलिस अभिरक्षा में उसे स्वरूपरानी नेहरू अस्पताल भेजा गया। वहां रामहित का अल्ट्रासाउंड हुआ। डीआइजी का कहना है कि रिपोर्ट से साफ हो जाएगा कि किडनी निकाली गई या नहीं। इससे पहले जेल प्रशासन ने कैदी का आइबीपी टेस्ट 18 मार्च 2018 को कराया गया था, तब उसकी दोनों किडनी होने की रिपोर्ट आई थी।

जांच कर होगी कार्रवाई

इस मामले में स्वरूपरानी नेहरू अस्पताल प्रबंधन का कहना है कि जांच कराकर कार्रवाई की जाएगी। एसआरएन अस्पताल के प्रमुख अधीक्षक डॉ. अरुण कुमार श्रीवास्तव कहते हैं कि इस तरह की शिकायत न उनके पास आई है और न ही मेडिकल कालेज के प्राचार्य के पास। अब मामला सामने आया है तो जांच कराई जाएगी। उनका यह भी कहना है कि अस्पताल में किडनी ट्रांसप्लांट की सुविधा ही नहीं है। कैदी आकर दिखाए तो मालूम किया जा सके कि उसकी दोनों किडनी थी कि नहीं।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस