प्रयागराज, जेएनएन। शहर से 35 किलोमीटर दूर मऊआइमा इलाके में मंगेतर के सामने युवती से मारपीट और छेड़खानी के तीन आरोपितों की गिरफ्तारी न होने से परेशान पुलिस शुक्रवार को बुलडोजर लेकर उनकी बस्ती में पहुंच गई। घर के सामने बुलडोजर पहुंचने की खबर मिलते ही एक अभियुक्त माशूक ने थाने पहुंचकर सरेंडर कर दिया। इसी मामले में वसीक और जकारिया अभी फरार हैं। उनकी तलाश में पुलिस छापेमारी कर रही है। अभियुक्तों के घरवालों ने पुलिस पर तोड़फोड़ का आरोप लगाया है, जिसे अधिकारी निराधार बता रहे हैं।

जानिए क्या है पूरा घटनाक्रम

सोरांव निवासी एक युवक की सगाई मऊआइमा की युवती से तय हुई है। बुधवार को वह अपनी मंगेतर से मिलने के लिए नदी की तरफ गया था, तभी सिसई सिपाह गांव के तीन युवक पहुंच गए। युवती और उसके मंगेतर को एक साथ देख तीनों युवकों ने मनमानी करनी चाही और विरोध पर मारपीट करने लगे। युवती से छेड़खानी भी की। घटना का वीडियो इंटरनेट मीडिया पर प्रसारित हुआ तो पुलिस ने तीनों के खिलाफ छेड़खानी समेत अन्य धाराओं में मुकदमा कायम किया। एफआइआर होते ही अभियुक्त घर छोड़कर भाग निकले।

खुद थाने जाकर किया सरेंडर डर था कि घर न गिरा दे पुलिस

वीडियो वायरल होने पर गिरफ्तारी का दबाव बना तो शुक्रवार को पुलिस इन आरोपितों के घर बुलडोजर लेकर पहुंच गई। बुलडोजर देख गांव में खलबली मच गई। कुछ देर बाद पता चला कि माशूक ने थाने में आत्मसमर्पण कर दिया है, जिसके बाद पुलिस बुलडोजर लेकर लौट आई। पता चला है कि आऱोपित ने खुद थाने जाकर सरेंडर कर दिया क्योंकि उसे डर था कि पुलिस उसके परिवार का घर ढहा देगी। थाना प्रभारी सुरेश सिंह का कहना है कि माशूक को गिरफ्तार कर लिया गया है। बाकी दोनों अभियुक्तों की गिरफ्तारी के लिए प्रयास हो रहा है।

Edited By: Ankur Tripathi