प्रयागराज, जेएनएन। सराय ममरेज के देवगहना गांव में शनिवार को तालाब खोदाई के दौरान मजदूरों की जांच करने पहुंचे ग्राम पंचायत अधिकारी पर हमला कर दिया गया। इससे वहां अफरा-तफरी मच गई। मनरेगा मजदूरों के जरिए हमला करने का आरोप लगने पर ग्राम प्रधानों ने हंगामा शुरू कर दिया। मौके पर पहुंची पुलिस ने किसी तरह मामले को शांत कराया। ग्राम पंचायत सचिव और प्रधान ने एक दूसरे पर आरोप लगाते हुए लिखित शिकायत दी है। अब पुलिस मामले की जांच कर रही है।

वीडिओ बनाने लगे तो बौखलाए ग्राम प्रधान के लोग

बताया गया सरायममरेज थाना क्षेत्र के देवगहना गांव में शनिवार को तालाब की खोदाई हो रही थी। मनरेगा के तहत मजदूरों को लगाया गया था। इसी बीच खंड विकास अधिकारी गौरवेंद्र सिंह को पता चला कि प्रधान के दबाव में रोजगार सेवक रजिस्टर में मजदूरों की संख्या बढ़ा दी गई है। तब ग्राम पंचायत सचिव संतराम व तनय तिवारी मौके पर पहुंचे। उन्होंने ने खोदाई कर रहे मजदूरों को वीडियो बनाना शुरू कर दिया।

ग्राम प्रधान के इशारे पर किया मजदूरों ने हमला

आरोप है कि इसी दौरान ग्राम प्रधान पति के इशारे पर मजदूरों ने हमला कर दिया, जिससे वह चुटहिल हो गए। इसका पता चलते ही आसपास के तमाम और प्रधान पहुंचकर हंगामा करने लगे। दोनों पक्षों ने एक-दूसरे पर आरोप लगाया है। फिलहाल सरायममरेज थाने के दारोगा रामेंद्र सिंह, अरविंद कुमार ने मौके पर पहुंचकर मामला शांत कराया। उन्होंने कहा कि जांच के बाद उच्चाधिकारियों के निर्देश पर अग्रिम कार्रवाई की जाएगी।

Edited By: Ankur Tripathi

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट