प्रतापगढ़, जेएनएन। सदी के महानायक व हिंदी फिल्मों के अद्वितीय अभिनेता अमिताभ बच्चन को भारतीय सिनेमा के सर्वोच्च सम्मान दादा साहब फाल्के अवार्ड से सम्मानित करने के एलान से प्रतापगढ़ झूम उठा है। उनके पुरखों का गांव बाबूपट्टी तो इस उपलब्धि पर निहाल हो चला है। मंगलवार शाम जैसे ही इस बात का पता चला, खुशी की लहर दौड़ गई।

प्रतापगढ़ जिले के रानीगंज क्षेत्र का बाबू पट्टी गांव अमिताभ बच्चन के पिता प्रख्यात कवि डॉ. हरिवंश राय बच्चन की जन्मभूमि रही है। कालांतर में वह प्रयागराज (पूर्ववर्ती इलाहाबाद) में जाकर जरूर बस गए, पर लगातार प्रतापगढ़ से उनका जुड़ाव बना रहा। उन्होंने आत्मकथा में भी गांव का जिक्र किया है। उनके पुत्र यानि महानायक अमिताभ बच्चन को फाल्के अवार्ड मिलने पर दैनिक जागरण ने जिले से जुड़े कुछ प्रमुख कलाकारों और बाबू पट्टी के लोगों से बात की तो उनकी खुशी देखते ही बनी।

मशहूर चरित्र अभिनेता अनुपम श्याम ओझा ने कहा कि अमिताभ बच्चन को यह पुरस्कार मिलने से पुरस्कार का भी सम्मान बढ़ा है। वह अब भी बड़े उत्साह के साथ पूरी दुनिया का मनोरंजन कर रहे हैं। उनके बिना भारतीय सिनेमा अधूरा कहा जाएगा। उनको पुरस्कार से यूपी, प्रतापगढ़ को खास गर्व है। गायक और अभिनेता रवि त्रिपाठी का कहना है कि प्रतापगढ़ की मिट्टी का प्रताप बहुत बड़ा है। अमिताभ बच्चन भारत के गौरव हैं। पूरी दुनिया को इन पर नाज है। मैं उनको इस पुरस्कार मिलने का स्वागत करता हूं। बिग बी के पुरखों के गांव बाबू पट्टी में पूर्व प्रधान पंकज शुक्ल, राकेश मिश्र, अमिताभ श्रीवास्तव व फूलचंद्र ने कहा कि खुशी स्वाभाविक है। हम लोग इसे जश्न के रूप में मनाएंगे।

गांव आ चुकी हैं जया

अमिताभ बच्चन की पत्नी जया बच्चन बाबू पट्टी आ चुकी हैं। उन्होंने पुत्रवधू ऐश्वर्या राय और अभिषेक बच्चन के साथ आने का वादा भी किया था। वैसे यह वादा अधूरा है, पर गांव के लोगों को उम्मीद है कि एक न एक दिन वह आएंगी।

Posted By: Umesh Tiwari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस