प्रयागराज,जेएनएन : पूर्वी उत्तर प्रदेश क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक में लूट करने वाले बदमाश पूर्वांचल के हो सकते हैं। लुटेरों की तलाश में जुटी क्राइम ब्रांच को घटनास्थल से कुछ दूर पर एक संदिग्ध मोबाइल नंबर की लोकेशन मिली है। वह नंबर जौनपुर के एक शातिर बदमाश का बताया जा रहा है। लूटकांड के बाद उस नंबर की लोकेशन वाराणसी और फिर जौनपुर में पाई गई है। इस आधार पर इन दोनों जिलों के संदिग्ध बदमाशों पर पुलिस का शक गहरा गया है।

लूटकांड में शामिल शातिर लुटेरों की तस्वीर सीसीटीवी फुटेज से मिली है। उस फुटेज को भी वाराणसी, जौनपुर और प्रतापगढ़ की पुलिस को भेजा गया है, ताकि उनके बारे में जल्द पता लगाया जा सके। क्राइम ब्रांच और मऊआइमा पुलिस अब तक कई संदिग्ध बदमाशों को उठाकर कड़ाई से पूछताछ कर चुकी है। उन्हें फुटेज दिखाकर भी लुटेरों के बारे में जानकारी जुटाई जा रही है, लेकिन सटीक सुराग पुलिस के हाथ नहीं लग सका है। एक टीम अभी भी मऊआइमा में डेरा डाले हुए है। कहा जा रहा है कि जल्द ही क्राइम ब्रांच नैनी और प्रतापगढ़ जेल में बंद कुछ अपराधियों से भी इस संबंध में पूछताछ करेगी। बैंक के कुछ कर्मचारियों की भूमिका भी संदिग्ध है। ऐसे कर्मचारियों के मोबाइल की कॉल डिटेल रिपोर्ट भी निकलवाई जा रही है। फिलहाल एसपी गंगापार नरेंद्र कुमार सिंह का कहना है कि कुछ सुराग मिले हैं, जिसके आधार पर जांच को आगे बढ़ाया जा रहा है। जल्द ही लुटेरों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा। पांच दिन पहले मऊआइमा स्थित पूर्वी उत्तर प्रदेश क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक में घुसे बदमाशों ने दिनदहाड़े फायङ्क्षरग करके करीब सवा छह लाख रुपये लूट लिए थे।

Posted By: Brijesh Srivastava

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप