जागरण संवाददाता, प्रयागराज : फाफामऊ स्थित गंगा नदी में हत्या कर फेंकी गई मनीष की लाश बरामद करने के बाद पुलिस आरोपितों की तलाश में लगी है। शुक्रवार को पुलिस को पता चला कि आरोपित कछार में छिपकर रह रहे हैं। इस पर पुलिस ने सर्च आपरेशन चलाया।

फाफामऊ के कछार में 16 दिसंबर की रात मऊआइमा थाना क्षेत्र के गदियानी गांव निवासी मिथुन पुत्र रामफेर अपने दोस्त पुराना फाफामऊ निवासी मनीष कुमार पुत्र स्व. अच्छेलाल के साथ फसल की रखवाली कर रहा था। उसी समय शिवकुटी थाना क्षेत्र के बारूदखाना के रहने वाले आशीष, ननके, राजाबाबू, मनजीत और आकाश पहुंचे। मिथुन के गर्दन पर गोली मारी और मनीष की हत्या कर शव को गंगा नदी में फेंक दिया था। बुधवार देर रात पुलिस ने राजाबाबू को मुठभेड़ के बाद गिरफ्तार किया और गुरुवार को उसकी निशानदेही पर मनीष की लाश गंगा नदी से बरामद की थी। शुक्रवार को पुलिस को जानकारी मिली कि फरार आरोपित आशीष, ननके, मनजीत और आकाश कछार में ही छिपे हुए हैं। जानकारी पाते ही पुलिस ने सर्च आपरेशन चलाया, लेकिन किसी का पता नहीं चला। गम और गुस्से के बीच मनीष का हुआ अंतिम संस्कार

संसू, फाफामऊ: मनीष कुमार की लाश का शुक्रवार को दिन में डॉक्टरों ने पोस्टमार्टम किया। शाम को शव फाफामऊ गंगाघाट पर लाया गया तो वहां मौजूद घरवाले और ग्रामीण अधिकारियों से मुआवजे की मांग करने लगे। एसडीएम सोरांव अनिल चतुर्वेदी ने मृतक की मां धानी देवी, बहन लक्ष्मी, मीना और भाई सतीश से प्रदेश सरकार द्वारा आठ लाख रुपये, आवास और 30 हजार रुपये पारिवारिक लाभ योजना के तहत दिलाए जाने की बात कही। इसके बाद मनीष का अंतिम संस्कार किया गया। सीओ सोरांव अमिता सिंह के साथ पुलिस फोर्स व राजनेता मौजूद रहे।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021