प्रयागराज : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 16 दिसंबर को तीन घंटे शहर में रहेंगे। वह दोपहर में लगभग एक बजे तीन हेलीकॉप्टर से आएंगे। तीनों हेलीकॉप्टर की लैंडिंग मोतीलाल नेहरू राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान (एमएनएनआइटी) में होगी। यहां से प्रधानमंत्री का काफिला संगम जाएगा। वहां कुंभ के कार्यो के लोकार्पण के बाद फिर एमएनएनआइटी लौटेंगे। उसके बाद वह तीनों हेलीकॉप्टर से झूंसी के अंदावा स्थित सभास्थल पर जाएंगे।

प्रधानमंत्री मोदी का 16 दिसंबर को प्रयागराज का कार्यक्रम का मिनट-टू-मिनट पीएमओ से लगभग फाइनल हो गया है। वह रायबरेली से यहां आएंगे। रायबरेली में भी उनकी सभा है। यहां एमएनएनआइटी में राज्यपाल राम नाईक, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य स्वागत करेंगे। प्रधानमंत्री का काफिला एमएनएनआइटी से ओल्ड कैंट, विश्वविद्यालय, बालसन चौराहा, सोहबतियाबाग, अलोपीबाग चौराहा, परेड होते हुए संगम पहुंचेगा। वहां त्रिवेणी पूजन के साथ वह आरती भी करेंगे।

इसके बाद वह इंटीग्रेटेड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर (आइ ट्रिपल सी) और लगभग साढ़े तीन हजार करोड़ रुपये के कुंभ के कार्यो का लोकार्पण करेंगे। प्रधानमंत्री किला स्थित अक्षयवट भी जाएंगे। फिर वह बड़े हनुमान मंदिर में दर्शन-पूजन करेंगे। झूंसी के अंदावा स्थित सभास्थल में प्रधानमंत्री के पहुंचने का समय दोपहर 2.30 बजे निर्धारित किया गया है। सभा में 3.45 बजे तक वह रहेंगे। शाम चार बजे वह हेलीकॉप्टर से दिल्ली रवाना हो जाएंगे। 24 घंटे पहले ही सील हो जाएगा एमएनएनआटी व संगम :

प्रधानमंत्री के 16 दिसंबर के कार्यक्रम को लेकर 15 दिसंबर को एमएनएनआइटी और संगम क्षेत्र सील कर दिया जाएगा। एमएनएनआइटी में हेलीपोर्ट स्थल के आसपास के पूरे इलाके में पुलिस-पीएसी और अ‌र्द्धसैनिक बलों की तैनाती रहेगी। इसी तरह संगम क्षेत्र में भी पीएसी के साथ पैरामिलिट्री तैनात की जाएगी। दो दिन पहले एसपीजी व पीएमओ की टीम का डेरा :

पीएम के आगमन को लेकर दो दिन पहले ही पीएमओ और एसपीजी की टीम यहां पहुंच जाएगी। पीएमओ के अधिकारियों की टीम को कार्यक्रम का पूरा ब्योरा भेज दिया गया है। उनके मुताबिक दौरे की रूपरेखा तय की गई है। एसपीजी एमएनएनआइटी, संगम और सभास्थल को पहले ही अपने कब्जे में ले लेगी। 30 आइएएस-आइपीएस व 60 मजिस्ट्रेट व सीओ की तैनाती :

प्रधानमंत्री की सुरक्षा के लिए पुख्ता इंतजाम किए जा रहे हैं। एमएनएनआइटी से लेकर संगम तक और फिर सभास्थल पर 30 आइएएस और आइपीएस अफसरों की तैनाती का खाका तैयार हुआ है। इसके अलावा 60 मजिस्ट्रेटों और क्षेत्राधिकारियों की भी तैनाती की जा रही है। एमएनएनआइटी से लेकर संगम तक सभी चौराहों व तिराहों पर एक मजिस्ट्रेट व एक सीओ तैनात रहेंगे। बालसन चौराहे पर दो आइएएस, दो आइपीएस, चार एडीएम व चार एएसपी के साथ आठ मजिस्ट्रेट तथा आठ सीओ तैनात किए जा रहे हैं। किले में पीएम कर सकते हैं लंच :

प्रधानमंत्री किले में लंच कर सकते हैं। वैसे एमएनएनआइटी में भी उनका लंच प्रस्तावित है। दोनों स्थानों पर लंच की व्यवस्था की जा रही है। पीएमओ के अफसर और एसपीजी टीम ही लंच का स्थान फाइनल करेगी। वैसे लंच में सादा भोजन ही रखने को कहा गया है।

Posted By: Jagran