राज्य ब्यूरो, प्रयागराज। प्राचीन भारतीय ज्ञान के उन बिंदुओं को स्पष्ट करें, जिनके आधार पर भारत विश्वगुरु बना था। गुप्त काल को प्राचीन इतिहास का स्वर्ण युग क्यों कहा जाता है? जब निर्धनता कई पीढ़ियों तक हस्तांतरित होती है तो वह एक संस्कृति का रूप ले लेती है, स्पष्ट करें आदि प्रश्न पीसीएस मुख्य परीक्षा में बुधवार को पूछे गए। लिखित परीक्षा के दूसरे दिन मानविकी विषयों से प्रश्न पूछे गए। दोनों प्रश्न पत्र औसत रहे। ज्यादा उलझाऊ प्रश्न नहीं आए और अधिकतर प्रश्न उत्तर प्रदेश से जुड़े पूछे गए।

यूपी से जुड़े कई प्रश्न पूछे, पूर्व के वर्षों में आए प्रश्नों की भरमार

सम्मिलित राज्य/ प्रवर अधनीस्थ सेवा (पीसीएस) की मुख्य परीक्षा 27 सितंबर से शुरू हुई थी और एक अक्टूबर तक चलेगी। पहले दिन अभ्यर्थियों की उपस्थिति 91.56 प्रतिशत रही। जबकि दूसरे दिन उपस्थिति घटकर 90.76 प्रतिशत रही। प्रदेश के तीन शहरों प्रयागराज, लखनऊ और गाजियाबाद में परीक्षा हो रही है। दूसरे दिन सामान्य अध्ययन के दो प्रश्न पत्र हुए। यह प्रश्न पत्र 200 अंकों के थे और 20 प्रश्न पूछे गए।

लघु उत्तरीय प्रश्नों में मौर्यकालीन कला और स्थापत्य कला की विशेषता, उन्नीसवीं सदी में उत्तर प्रदेश में पुनर्जागरण, प्रेस की आजादी के लिए राष्ट्रवादी नेता बाल गंगाधर तिलक का योगदान, सामाजिक सशक्तिकरण में सूचना प्रोद्योगिकी एवं इंटरनेट की भूमिका, जनसंख्या विस्फोट आदि पर प्रश्न पूछे गए। सरकार की योजनाओं स्मार्ट सिटी मिशन, हेरिटेज आर्क, स्वयं सहायता समूह, मिशन शक्ति, उमंग योजना के बारे में पूछा गया।

यूपी से कई प्रश्न थे। इसमें यूपी की प्रशासनिक व्यवस्था की समस्याएं और सुधार, पूर्वांचल में प्रचलित लोकगीत, यूपी के त्योहार, सिंचाई परियोजना का विवरण आदि पूछा गया। भूगोल, राजनीतिशास्त्र, भारतीय संविधान, आाजदी के आंदोलन और भारत विश्व संबंध पर कई प्रश्न पूछे गए। एक राष्ट्र एक चुनाव की संभावनाओं पर लिखने को कहा गया। पूछा गया कि जातीय गठजोड़ धर्मनिरपेक्ष तथा राजनीतिक कारणों से उत्पन्न होते हैं न कि आदिम पहचान से।

अभ्यर्थी बोले

- पेपर बहुत अच्छा रहा है। प्राचीत इतिहास से कई प्रश्न आए लेकिन मध्यकालीन और आधुनिक इतिहास के प्रश्न कम थे। विश्व इतिहास और ब्रिटिस काल से भी प्रश्न नहीं आए।

- एहसान अहमद, परीक्षार्थी

- पुराने पैटर्न पर ही इस बार भी पेपर आया था। पैटर्न में कोई बदलाव नहीं किया गया है। पिछले कुछ सालों में जो प्रश्न मुख्य परीक्षा में आ चुके थे, उसमें से कई प्रश्न इस बार पूछे गए हैं।

- रवि शंकर, परीक्षार्थी

- आज के दोनों प्रश्न पत्र सामान्य थे। सरकारी योजनाओं, इतिहास और उत्तर प्रदेश से जुड़े कई प्रश्न पूछे गए थे। हाल की घटनाओं से जुड़े केवल दो प्रश्न ही पूछे गए हैं।

- अजय कुमार, परीक्षार्थी

Edited By: Ankur Tripathi

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट