प्रयागराज, जागरण संवाददाता। सहायक अध्यापक भर्ती परीक्षा का पेपर लीक करनेके मामले की जांच में जुटी पुलिस ने भारत स्काउट एंड गाइड इंटर कालेज स्थित परीक्षा केंद्र पर दोबारा जाकर जांच और पूछताछ की। यहां पूछताछ और छानबीन में पुलिस को पता चला है कि प्रधानाचार्य रामनयन द्विवेदी की बेटी आकांक्षा कमरा नंबर 15 में परीक्षा दे रही थी। वह जहां बैठी थी, ठीक उसी के ऊपर सीसीटीवी कैमरा लगा था। इसके चलते उसकी गतिविधि सीसीटीवी कैमरे में रिकार्ड नहीं हो पाई है। हालांकि फुटेज की जांच में कुछ साक्ष्य मिले हैं, जिसके आधार पर उसकी भूमिका संदिग्ध मानी जा रही है।

नकल की थी या नहीं, यही जांच का विषय

पेपर लीक केस की छानबीन कर रही कीडगंज थाने की पुलिस का कहना है कि जल्द ही कालेज के सीसीटीवी कैमरों का डिजिटल वीडियो रिकार्डर (डीवीआर) को अपने कब्जे में लेकर जांच को आगे बढ़ाया जाएगा। उधर, फरार चल रहे वाइस प्रिंसिपल आकाश खरे, प्रधानाचार्य का बेटा अनुग्रह, बेटी आकांक्षा और साल्वर वीरेंद्र कुमार की तलाश में दबिश दी गई, लेकिन कुछ सुराग नहीं मिल सका। कहा जा रहा है कि आकांक्षा ने साल्व हुए पेपर से नकल किया था या नहीं, इसके बारे में वहीं बता सकती है। साथ ही आकाश व अन्य आरोपितों से पूछताछ की जाएगी कि उसने किस-किस को पेपर को लीक करने के बाद उपलब्ध करवाया था। रविवार को एसटीएफ ने कीडगंज थाना क्षेत्र स्थित डा. केएन काटजू इंटर कालेज में कार्रवाई करते हुए वहां के प्रधानाचार्य व सहायक अध्यापक अशोक तिवारी को गिरफ्तार किया था। उसके पास से मिले मोबाइल में प्रश्नपत्र की खींची गई फोटो थी। उसने वाट्स एप से पेपर की फोटो साल्वर को भेजी थी। अब साल्वर से प्रधानाचार्य की बेटी नकल कर सकी या नहीं, यही जांच का विषय है।

Edited By: Ankur Tripathi