प्रयागराज, जागरण संवाददाता। उत्तर मध्य रेलवे के मिर्जापुर - पं. दीन दयाल उपाध्याय खंड पर अब ट्रेनें पूरी रफ्तार में दौड़ेंगी। डीसी ट्रैक सर्किट के नवीनीकरण के बाद अब ट्रेनों की लेटलतीफी खत्म हो जाएगी। रेलवे ने झिंगुरा स्टेशन के स्टेशन यार्ड में सभी ट्रैक सर्किट का नवीनीकरण कर दिया है। ऐसे में अब मानसून के दौरान जल जमाव से होने वाले ट्रैक सर्किट के खराब होने की समस्या हल हो जाएगी। बारिश का मौसम आते ही झिंगुरा स्टेशन यार्ड जल भराव की समस्या से जूझने लगता था। हर साल यार्ड में पानी भर जाता और ट्रैक सर्किट के फेल होने से ट्रेनें लेट हो जाती थी।

अब स्टेशन यार्ड के सभी डीसी ट्रैक सर्किट के साथ ड्यूल एमएसडीएसी एक्सल काउंटर के 26 ट्रैक सेक्शन कमीशन किया गया है। यह ऑटो रीसेट प्रणाली से जुड़ा है। अब डीसी ट्रैक फेल होने से न तो परिचालन बाधित होगा और न ही सिग्नल फेल होगा। डीसीटीसी ट्रैक सर्किट के फेल होने पर उसका कंट्रोलिंग सिग्नल स्वतः पीला हो जाएगा। पहले ऐसी स्थिति में स्टेशन मास्टर द्वारा मेमो देकर रेल परिचालन होता था। जब सिग्नल एवं पीवे विभाग सबकुछ ठीक होने का मेमो स्टेशन मास्टर को देता था, तब वापस ट्रेन रफ्तार पकड़ती थी। इस नई तकनीक से ट्रेन अब समय से और पूरी संरक्षा के साथ पहुंचेगी। नए तकनीक के संचालन व मेंटेनेंस के लिए मिर्जापुर एवं झिंगुरा के सिग्नल विभाग के कर्मचारियों को प्रशिक्षण भी दे दिया गया है। इससे अब मिर्जापुर - पं. दीन दयाल उपाध्याय खंड पर अब ट्रेनों की रफ्तार नहीं थमेगी और समय पर अपने गंतव्य तक पहुंच सकेंगे।

सिग्नल फेल नहीं होगा और ट्रेन लेट नहीं होगी

बारिश के दौरान झिंगुरा स्टेशन के यार्ड में पानी भरने, डीसी ट्रैक सर्किट के फेल होने से ट्रेनें लेट होती थी। अब स्टेशन यार्ड के सभी डीसी ट्रैक सर्किट के साथ ड्यूल एमएसडीएसी एक्सल काउंटर के 26 ट्रैक सेक्शन कमीशन हुआ है। इससे परिचालन और सिग्नल फेल नहीं होगा और न ही ट्रेन लेट होगी।

अमित कुमार सिंह, जनसंपर्क अधिकारी, उत्तर मध्य रेलवे, प्रयागराज

Edited By: Ankur Tripathi