प्रयागराज, जेएनएन। सिविल लाइंस में रेलवे स्टेशन परिसर में खड़ी एटीएम कैश वैन से 1.52 करोड़ चोरी के मामले में महिला समेत नौ लोगों को जेल भेज दिया गया है। पुलिस का दावा है कि उनके कब्जे से 10 लाख रुपये बरामद किए गए हैं। तमिलनाडु से हिरासत में लेने के बाद उनसे कई दिनों से पूछताछ की जा रही थी। तीनों का मेडिकल परीक्षण अस्पताल में कराया गया।

तीन अक्‍टूबर को कैश वैन से रुपये हुए थे गायब

यह घटना तीन अक्तूबर की है। शाम पांच बजे कैश वैन रेलवे स्टेशन सिविल लाइंस साइड स्थित एसबीआइ एटीएम के सामने पहुंची थी। एक मात्र गार्ड के साथ दोनों कस्टोडियन थैले में 18 लाख रुपये लेकर एटीएम में लोड करने चले गए थे। ड्राइवर वैन से दूर टहलने लगा। तभी शातिर गिरोह ने वैन से बक्सा निकाल लिया जिसमें 1.52 करोड़ रुपये थे। सीसीटीवी फुटेज से पुलिस ने गिरोह के बदमाशों की पहचान करने के बाद तमिलनाडु के त्रिचिरापल्ली जिले में छापेमारी शुरू कर दी थी। पुलिस टीम ने गिरोह की महिला समेत नौ लोगों को कुछ दिन पहले हिरासत में लिया था। इनमें सरगना मुकेश कुमार भी शामिल है।

फर्जी आधार कार्ड समेत कई जाली दस्तावेज मिले

गिरोह के सदस्‍यों के पास फर्जी आधार कार्ड समेत कई जाली दस्तावेज मिले। सभी से कैंट थाने के इंटरोगेशन रूम में एडीजी और एसएसपी ने भी पूछताछ की पर अब तक इस बारे में पुलिस गोपनीयता बनाए हुए है। तमिल भाषी इन अपराधियों से सवाल जवाब करने में भी काफी दिक्कत हुई। हालांकि दुभाषिए के जरिए पूछताछ में वारदात के हर पहलू का पर्दाफाश हो गया। यह गिरोह वाराणसी से होते हुए प्रयागराज आया था। इनमें एक हिंदी का अच्छा जानकार है। उसने ही भागते वक्त ऑटो चालक सहित रास्ते में अन्य लोगों से बात की।

आरोपितों को नैनी सेंट्रल जेल भेज दिया गया

महिला समेत आरोपितों को सिविल लाइंस थाने लाकर उनकी गिरफ्तारी के कागजात तैयार किए गए। फिर पुलिस के पहरे में उन्हें बेली अस्पताल ले जाकर मेडिकल परीक्षण कराया गया। इसके बाद उन्हें रिमांड मजिस्ट्रेट के समक्ष पेश कर न्यायिक हिरासत में नैनी सेंट्रल जेल भेज दिया गया। गिरफ्तारी में सफल बरामदगी में फेल - कैश वैन से चोरी हुए 1.52 करोड़ रुपये में 10 लाख रुपये ही पुलिस बरामद कर सकी है। बहुत प्रयास के बावजूद पुलिस एक चौथाई रकम भी नहीं हासिल कर सकी।

रुपये रिश्तेदारों और करीबियों के पास रख दिए थे

एसपी क्राइम आशुतोष मिश्र के मुताबिक, गिरोह के लोगों ने यहां से भागते ही अपने अपने हिस्से के पैसे रिश्तेदारों और करीबियों के पास रख दिए। यूपी से 2100 किलोमीटर दूर तमिलनाडु में तमाम लोगों के घरों में छापेमारी और पैसे बरामदगी का प्रयास हुआ लेकिन सफलता नहीं मिली। ये हुए गिरफ्तार तमिलनाडु में त्रिचिरापल्ली के मनिकन्दम भुलई पंट्टी गांव का मुकेश कुमार, प्रेम कोइरी, उसका भाई राजा कोइरी, जैक मुदलियार, गोकुल, कुमारन, साहुल हमीद, सुब्रमण्यम, जबकि महिला मीना सेलवी पश्चिम बंगाल में हुगली की रहने वाली है।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप