प्रयागराज,जेएनएन।  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आगमन से पहले सतर्कता बढ़ाते हुए परेड मैदान के आसपास के इलाके में रहने वाले लोगों की निगरानी शुरू कर दी गई है। क्राइम ब्रांच, एटीएस और एसटीएफ द्वारा तमाम फोन को सर्विलांस पर लगाया गया है।

घुमंतू डेरे वालों को हटाया जा रहा

परेड मैदान पर रहने वाले घुमंतू डेरे वालों को हटाया जा रहा है। दारागंज, कीडगंज, बैरहना, अलोपीबाग और सोहबतियाबाग इलाके में एलआइयू के साथ ही राज्य और केंद्रीय खुफिया शाखा के भी गुप्तचर सक्रिय हैैं। खासतौर से झोपड़पट्यिों में रहने वाले लोगों की गतिविधियों पर निगाह रखी जा रही है। पता किया जा रहा है कि कोई बाहरी शख्स तो नहीं आकर टिका है। ड्रोन से भी सर्विलांस हो रहा है। एडीजी, आइजी, एसएसपी परेड पर कार्यक्रम स्थल के निरीक्षण के साथ ही लगातार बैठकों में सुरक्षा पर मंथन कर रहे हैैं।

दस जिलों से आएंगे पुलिसकर्मी और अफसर

सुरक्षा और शांति व्यवस्था के लिए दस जिलों से अधिकारियों और कर्मचारियों को बुलाया गया है। छह आइपीएस, लगभग 30 डिप्टी एसपी और ढाई हजार पुलिसकर्मियों के साथ ही पीएसी और आरएएफ की भी तैनाती रहेगी। बम डिस्पोजल स्कवायड और एंटी सबोटाज चेक टीम लगातार परेड मैदान पर चेकिंग कर रही हैैं। प्रधानमंत्री की सुरक्षा की बाडगोर संभालने के लिए एसपीजी की टीम बुधïवार शाम यहां पहुंच रही है। शाम चार बजे बमरौली एयरपोर्ट पर बैठक होनी है। 

सात सौ बसों को बांट चुके पर्ची

 दिव्यांगजनों और वृद्धजनों को कार्यक्रम स्थल परेड मैदान पर लाने और ले जाने के लिए बसों के इंतजाम में परिवहन विभाग के अधिकारी डटे हैं। अब तक सात सौ बसों को डीजल पर्ची बांटी जा चुकी है। आरटीओ प्रशासन आरके सिंह ने बताया कि आयोजन के लिए 15 सौ बसों की डिमांड थी। इसे देखते हुए वाराणसी और मिर्जापुर मंडल से भी बसें मंगवाई गई हैं।

Posted By: Brijesh Srivastava

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस