प्रयागराज, जेएनएन। बैरहना में नए यमुना पुल के सामने शुक्रवार की देर रात बेकाबू ट्रक ने शादी समारोह से घर लौट रहे बाइक सवार पिता-पुत्र को चपेट में ले लिया। पहिए के नीचे आने से 32 वर्षीय रंजीत की मौत हो गई। वहीं जख्मी पिता को अस्पताल ले जाया गया। मौके पर परिवार की महिलाओं समेत स्थानीय लोग जुट गए। पार्षद के नेतृत्व में लोगों ने परिवार को मुआवजा दिलाने की मांग करते हुए आक्रोश जताया।

रिश्तेदारी में शादी समारोह से लौट रहे थे पिता-पुत्र

कीडगंज थाने के निकट रहने वाले मदनलाल हेला के रिश्तेदार की बेटी का दारागंज में शुक्रवार को विवाह था। वह परिवार सहित शादी समारोह में गए थे। देर रात तीन बाइक पर सभी घर लौट रहे थे। एक बाइक पर मदनलाल बेटे रंजीत के साथ थे। बाइक रंजीत चला रहा था। अन्य बाइक पर उनकी पत्नी और बेटी समेत परिवार के अन्य लोग थे। नए पुल के पास पिता-पुत्र की बाइक को वाराणसी की तरफ से आ रहे ट्रक ने पीछे से धक्का मारा। वे दोनों सड़क पर गिरे तो अगला पहिया रंजीत के शरीर से गुजर गया। इसके बाद ड्राइवर ट्रक बैक करने लगा तो घायल पड़े मदनलाल के भी कुचलने का खतरा था। पीछे कार से आ रहे शख्स ने ट्रक रोका तो ड्राइवर उतरकर भाग गया। खबर पाकर कीडगंज थाने की पुलिस आ गई। रंजीत की मौत हो चुकी थी। मदनलाल जख्मी थे। रंजीत की बहन समेत परिवार की महिलाएं आकर रोने-चीखने लगीं। कोहराम मच गया। मदनलाल को अस्पताल ले जाया गया।

सीओ के समझाने पर माने आक्रोशित लोग

क्षेत्रीय पार्षद अकीलुर्रहमान समेत स्थानीय लोग जुटे तो पीडि़त परिवार को 10 लाख रुपये मुआवजा देने की मांग पर लोगों ने ट्रक हटाने से रोक दिया। सीओ रत्नेश सिंह आकर लोगों को समझाने और मनाने का प्रयास करने लगे। देर रात पुलिस के बहुत समझाने पर लोग सड़क से हटे।

तीन बच्चों से छिन गया पिता का साया

रंजीत की मौत ने परिवार को गहरा सदमा दिया है। उसके तीन बच्चे हैं। एक बेटी तो डेढ़ माह पहले ही जन्मी है। इसीलिए पत्नी अंजू बच्चों के साथ घर पर थी। बच्चों और पत्नी पर तो मुसीबत ही आ गई है।

 

Posted By: Brijesh Srivastava

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस