जागरण संवाददाता, प्रतापगढ़ : शुक्रवार को हुई चार हत्याओं से प्रतापगढ़ दहल उठा। दोपहर में अंतू थाना क्षेत्र में जहा दंपती को गोलियों से भून दिया गया। वहीं शाम को बाघराय थाना क्षेत्र में चाचा-भतीजे की गोली मारकर हत्या कर दी गई।

जिले में शुक्रवार को सिर्फ गोलियों की तड़तड़ाहट सुनाई दे रही थी। दोपहर में अंतू थाना क्षेत्र के कुआ (चौरा) गाव में दिनेश प्रताप सिंह (32) पुत्र स्वर्गीय जितेंद्र सिंह निवासी कुआ घर के बाहर गायघाट-चंद्रिकन मार्ग के किनारे कुछ लोगों से बात कर रहा था। तभी बोलेरो से पहुंचे आधा दर्जन हमलावरों ने उसकी गोली मारकर हत्या कर दी। गोली चलने की आवाज सुनकर दिनेश की पत्‍‌नी प्रीतम (28) बैट लेकर दौड़ीं तो उन्हें भी गोलियों से भून दिया गया। डर के मारे उनके दोनों बेटे घर में दुबक गए। दिनेश के चाचा अधिवक्ता हेमंत सिंह का जमीन पर कब्जे को लेकर नागचंद्र मिश्र, सुरेश सिंह से विवाद चल रहा था। सुरेश सुबह ट्रैक्टर से विवादित जमीन को समतल करा रहा था। जानकारी होने पर कचहरी से पहुंचे हेमंत ने रोका तो वह मान गया। इसी के आधे घटे बाद दिनेश, उनकी पत्‍‌नी प्रीतम की गोली मारकर हत्या कर दी गई।

दोहरे हत्याकाड व बैंक डकैती की जानकारी होने पर इलाहाबाद से आइजी मोहित अग्रवाल दोनों घटनास्थल पर पहुंचे। दोनों घटनाओं में गिरफ्तारी को लेकर इलाहाबाद से पहुंचे आइजी मोहित अग्रवाल एसपी व पुलिस अफसरों से बात कर रहे थे। इसी दौरान बाघराय थाना क्षेत्र के भिटारा गाव में शाम पाच बजे भीम सिंह (23) पुत्र भगवती शहर सिंह व उनके ताऊ अरुण सिंह (57) पुत्र संत कुमार सिंह को गोली मार दी गई। घायल चाचा-भतीजे को सीएचसी कुंडा ले जाया गया। वहा प्राथमिक उपचार के बाद दोनों को जिला अस्पताल रेफर कर दिया गया। यहा जिला अस्पताल में चिकित्सकों ने दोनों को मृत घोषित कर दिया। दोनों का रास्ते को लेकर पड़ोसी कोमल सिंह से रास्ते का विवाद चल रहा था। कोमल ने अपनी लाइसेंसी रिवाल्वर से दोनों की गोली मारकर हत्या कर दी।

Posted By: Jagran