प्रयागराज, जागरण संवाददाता। विश्व हिंदू परिषद जल्द ही 'घर वापसी अभियान' शुरू करने जा रहा है। इसका नेतृत्व संत समाज करेगा। विहिप के कार्यकर्ता और पदाधिकारी संतों को साथ लेकर टोली बनाकर गांव और मोहल्लों में निकलेंगे। ऐसे मुस्लिम व ईसाई समाज के लोगों से संपर्क किया जाएगा जिनके पूर्वज हिंदू रहे हैं। इन सभी लोगों से वापस अपने मूल धर्म में आने का आग्रह किया जाएगा। यह निर्णय विहिप के केंद्रीय उपाध्यक्ष चंपत राय के नेतृत्व में पिछले दिनाें काशी प्रांत की प्रयागराज में हुई दो दिवसीय योजना बैठक में लिया गया।    

विहिप के केंद्रीय उपाध्‍यक्ष चंपत राय की क्‍या है मंशा : प्रयागराज के सहसों स्थित आरडी कालेज में हुई बैठक में केंद्रीय उपाध्यक्ष चंपत राय ने कहा कि ऐसे लोग जो किन्हीं कारणों से कभी हिंदू धर्म छोड़ चुके हैं, उन्हें अपने घर वापसी का पूरा मौका मिलना चाहिए। सभी से संगठन के पदाधिकारी व कार्यकर्ता संपर्क करेंगे। उनके मन में मूल धर्म के प्रति आस्था जागृत कराएंगे। यह कार्य अभियान के रूप में किया जाएगा।

विहिप कार्यकर्ताओं को संदेश : बैठक में विश्व हिंदू परिषद ने मतांतरण, लव जिहाद आदि को रोकने के लिए कार्यकर्ताओं को सक्रिय रहने का संदेश दिया। कहा, घर-घर पहुंचें। लोगों को अपनी संस्कृति और संस्कार के प्रति सजग करें। पदाधिकारियों ने हिंदू आस्था पर कुठाराघात करने वाली घटनाओं के प्रति चिंता भी जताई। इससे निपटने के लिए काशी प्रांत में हित चिंतक अभियान छह से 20 नवंबर तक चलाया जाएगा। इस बीच करीब पांच लाख लोगों को संगठन से जोड़ने का प्रयास होगा। इस अवसर पर क्षेत्र संगठन मंत्री पूर्वी उत्तर प्रदेश गजेंद्र, प्रांत संगठन मंत्री मुकेश कुमार, प्रांत अध्यक्ष शुभ नारायण सिंह, सह प्रांत संगठन मंत्री नितिन, प्रांत उपाध्यक्ष विमल प्रकाश, अजय गुप्ता, दिवाकर नाथ त्रिपाठी, सुरेश अग्रवाल, विनोद अग्रवाल, किशन शुक्ला, महेंद्र मौर्य, दिनेश त्रिपाठी, आनंद सिंह आदि मौजूद रहे।

12 से 16 अगस्त तक स्थापना दिवस के कार्यक्रम : योजना बैठक में आगामी कार्यक्रमों की रूपरेखा भी तय की गई। बताया गया कि राष्ट्र को अखंड बनाने के लिए 12 से 16 अगस्त तक संगठन के स्थापना दिवस से संबंधित कार्यक्रम होंगे। 17 से 24 अगस्त तक काशी प्रांत की सभी बस्ती, खंड में कई आयोजन कराए जाएंगे। इसके अतिरिक्त दुर्गा अष्टमी, गीता जयंती आदि भी मनाई जाएगी। विहिप के 60 वर्ष पूरे होने वाले हैं, उसके उपलक्ष्य में भी कई आयोजन होंगे।

Edited By: Brijesh Srivastava

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट