Move to Jagran APP

शहीद चंद्रशेखर आजाद पार्क में जिमखाना व मस्जिद से हटवाया अवैध कब्जा, हाई कोर्ट की सख्‍ती का असर

प्रयागराज के शहीद चंद्रशेखर आजाद पार्क के अंदर बढ़ते अतिक्रमण को देखते हुए हाई कोर्ट में पीआइएल दाखिल की गई थी। हाई कोर्ट के आदेश पर जिले के अधिकारियों ने आजाद पार्क में जिमखाना और मस्जिद के आसपास अतिक्रमण को हटवाया। यह कार्रवाई चलेगी जब तक पूरा कब्‍जा नहीं हटता।

By Brijesh SrivastavaEdited By: Published: Tue, 05 Oct 2021 09:07 AM (IST)Updated: Tue, 05 Oct 2021 09:07 AM (IST)
चंद्रशेखर आजाद पार्क में कब्‍जे को लेकर हाई कोर्ट में पीआइएल दाखिल की गई थी। कब्‍जा हटवाया गया।

प्रयागराज, जागरण संवाददाता। इलाहाबाद हाई कोर्ट की सख्ती के बाद अमर शहीद चंद्रशेखर आजाद पार्क परिसर के अवैध कब्जा हटवाया गया। जिमखाना को खाली करवाकर खेल विभाग को सौंप दिया गया है। वहीं अन्य कब्जों को वहां पर काबिज लोग खुद खाली करने के लिए जुटे रहे। कब्जा खाली करने की प्रक्रिया लगातार जारी रहेगी। कब्‍जा हटाए जाने से सुबह की सैर करने वालों के लिए भी राहत रहेगी।

आजाद पार्क परिसर में जिमखाना क्‍लब पर था कब्‍जा

आजाद पार्क परिसर में जिमखाना क्लब है। यहां पर खेलकूद की गतिविधियां संचालित होती है। इसके संचालन का काम एक समिति के पास था। वह खेल विभाग के अधीन नहीं था। इसकी बिल्डिंग भले ही स्टेडियम से सटकर बनी थी लेकिन इसका संचालन खेल विभाग से इतर था। इसे भी खेल विभाग के अधीन होना था लेकिन मामला कोर्ट में लंबित था। अब कोर्ट से फैसला आने के बाद वहां पर काबिज लोगों को इसे खाली करना पड़ा।

मस्जिद व मंदिर के बाहर अतिक्रमण था

आजाद पार्क परिसर में एक मस्जिद है। मस्जिद परिसर में छावनी बनाकर वहां पर कब्जा कर लिया गया था। ऐसे ही मंदिर के बाहर भी कुछ अतिक्रमण कर लिया गया था। पार्क में ही कुछ मजार भी पिछले कुछ वर्षों से बन गई थी और वहां पर छावनी बनाकर अतिक्रमण कर लिया गया था। पार्क के अंदर बढ़ते अतिक्रमण को देखते हुए हाई कोर्ट में पीआइएल दाखिल की गई थी।

हाई कोर्ट ने अधिकारियों को पार्क से कब्‍जा हटाने का दिया था निर्देश

हाई कोर्ट ने जिले के अधिकारियों को पार्क से कब्जा हटाने का निर्देश दिया तो पुलिस बल के साथ वहां पर कमिश्नर, डीएम, एसएसपी, पीडीए वीसी, उद्यान अधीक्षक आदि पहुंचे थे। अधिकारियों की चेतावनी के बाद कब्जा खाली कराया गया। जिमखाना में रह रहे लाेगों को वहां से हटाकर उसमें खेल विभाग ने अपना ताला लगा लिया। वहीं मस्जिद और मंदिर के बाहर हुए कब्जे को उनकी प्रबंध समिति के लोगों ने खाली किया। ऐसे ही मजार के कब्जे भी हटाए गए।


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.