प्रयागराज, जेएनएन। हुस्ना बेगम की हत्या चाकू से गोदकर की गई थी। शनिवार को शव बरामद होने के बाद पुलिस ने कब्‍जे में लेकर पोस्टमार्टम कराया। पोस्‍टमार्टम में पता चला कि उसका गला रेता गया था और पेट में भी चाकू से चार वार किया गया था। फिलहाल रस्सी से गला कसकर हत्या की पुष्टि नहीं हुई है। इससे साफ हो गया है कि हत्यारोपितों ने पुलिस को गुमराह किया था। साथ ही यह भी शक गहराने लगा है कि हुस्ना के शौहर इरफान की हत्या भी धारदार हथियार से की गई होगी। फिलहाल पुलिस अब आरोपितों को रिमांड पर लेकर हत्या में प्रयुक्त आलाकत्ल की बरामदगी करेगी।

पोस्‍टमार्टम रिपोर्ट में धारदार हथियार से हत्‍या की पुष्टि

शनिवार सुबह संगम घाट के पास चादर में लिपटी हुई एक महिला की लाश मिली। मौके पर पहुंची दारागंज और शिवकुटी पुलिस ने छानबीन की और शव को पोस्टमार्टम हाउस भिजवाया। कुछ देर बाद वहां भाई एजाज अहमद समेत अन्य लोग पहुंचे और शव की पहचान हुस्ना के रूप में की। फिर पोस्टमार्टम कराया गया और परिजन लाश लेकर गांव चले गए। कौशांबी के असरौली महमूदपुर निवासी एजाज ने बताया कि उनकी बहन का निकाह करीब 15 साल पहले हुआ था। उनकी कोई औलाद नहीं थी।

दंपती हत्‍याकांड में चार भतीजे व भाई जेल में है

शिवकुटी थाना क्षेत्र के मेंहदौरी कॉलोनी में रहने वाले हाजी मो. इरफान और उनकी बीवी हुस्ना की हत्या कर लाश जंगल व यमुना नदी में फेंक दी गई थी। पुलिस ने मामले में इरफान के भाई और उनके चारों बेटों को गिरफ्तार कर जेल भेज चुकी है। उनकी निशानदेही पर करेली से इरफान का शव क्षत-विक्षत अवस्था में बरामद कर लिया गया था लेकिन हुस्ना की लाश नहीं मिली थी।

बोले एसपी सिटी

एसपी सिटी बृजेश श्रीवास्तव ने बताया कि हुस्ना की लाश संगम घाट से मिल गई है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में धारदार हथिया से हत्या करने की बात सामने आई है। आरोपितों को रिमांड पर लेकर दोबारा पूछताछ की जाएगी।

कार से मिले खून के निशान

पुलिस ने दंपती हत्‍याकांड के आरोपितों के कार की फोरेंसिक जांच कराई तो उसमें कई जगह खून के निशान मिले। इससे साफ हो गया है कि कत्ल के दौरान कार का प्रयोग हुआ था।

 

Posted By: Brijesh Srivastava

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस