प्रयागराज, जेएनएन। सरकार ने जल संरक्षण के लिए खेत तालाब योजना की शुरुआत की है। इसके तहत इस वर्ष कुल 50 तालाब खोदे जाने हैं। इस योजना के अंतर्गत किसान अपने खेत में तालाब खोदवा सकते हैं। इसके लिए सरकार 50 फीसद अनुदान दे रही है। तालाबों में वर्षा का जल संरक्षित होगा और इससे खेतों की सिंचाई भी हो सकेगी। इस योजना से किसानों को आर्थिक लाभ हो सकेगा। इस योजना में चयन के लिए आनलाइन आवेदन किया जा रहा है।

तालाब में मत्‍स्‍य पालन व सिंघाड़े की खेती कर बढ़ाएं आय

इस वर्ष जिले में 50 तालाब खोदवाने का लक्ष्य भूमि संरक्षण विभाग को मिला है और किसानों की चयन प्रक्रिया के लिए आनलाइन आवेदन शुरू है। खेत तालाब योजना के अंतर्गत तैयार तालाबों में वर्षा का पानी बाहर नहीं जा पाता। तालाब में ही वर्षा का जल संरक्षित हो जाता है। इससे भूजल स्तर ठीक रहता है तथा फसलों को भी लाभ पहुंचता है। साथ ही जब सिंचाई करनी होती है तो पानी खोजना नहीं पड़ता। तालाब में मत्स्य पालन भी किया जा सकता है। सिंघाड़ा की खेती कर किसान अपनी आय बढ़ा सकते हैं। ऐसे में यह तालाब किसानों की खेतों को पानी देने के साथ आय संवर्धन का भी काम करते हैं।

खेत तालाब योजना के तहत प्रतापगढ़ में 109 तालाबों की हुई है खोदाई

वर्ष 2017-18 से यह योजना सरकार ने शुरू की थी। बीते तीन वर्षों में जिले में कुल 109 तालाबों की खोदाई खेत तालाब योजना अंतर्गत कराई गई है। इनमें वर्षा का जल संरक्षित होने से किसानों को लाभ मिल रहा है। वर्तमान वित्तीय वर्ष 2021-22 में जिले के लिए 50 किसानों का लक्ष्य निर्धारित है।

प्रत्‍येक विकास खंड के लिए निर्धारित है संख्‍या

प्रत्येक विकास खंड के लिए यह संख्या दो या तीन निर्धारित की गई है। प्रत्येक ब्लाक में दो सामान्य व एक अनुसूचित जाति के किसान योजना का लाभ ले सकेंगे। इस वित्तीय वर्ष में सामान्य वर्ग के 40 किसान चयनित होंगे । अनुसूचित जाति के 10 किसानों को योजना का लाभ मिलेगा । वित्तीय वर्ष 2021 22 के लिए पंजीकरण शुरू है।

एक तालाब पर एक लाख पांच हजार रुपये का होगा खर्च

खेत तालाब योजना के अंतर्गत खोदे जाने वाले तालाब पर एक लाख पांच हजार रुपये का खर्च आता है। इसमें से 52 हजार पांच सौ रुपये कृषक अंश तथा 52 हजार पांच सौ रुपये कृषक अनुदान है। पंजीकरण के बाद अनुदान किसानों के खाते में तीन किस्तों में पैसा भेजा जाता है। तालाब की लंबाई 22 मीटर, चौड़ाई 20 मीटर, गहराई तीन मीटर निर्धारित की गई है। तालाब की खोदाई के लिए तकनीकी सलाह विभाग के अधिकारी व कर्मचारियों द्वारा दी जाती है।

प्रतापगढ़ के भूमि संरक्षण अधिकारी बोले- इस वर्ष 50 किसान लाभान्वित

भूमि संरक्षण अधिकारी डाक्‍टर रमेश चंद्र कहते हैं कि वर्ष 2017-18 से वर्ष 2020- 21 के तीन वर्ष के वित्तीय वर्ष में जिले में 109 तालाबों की खोदाई खेत तालाब योजना में कराई गई है। इनमें वर्षा का जल संरक्षित होने से किसानों को लाभ मिल रहा है। इस वर्ष 50 किसानों को इस योजना का लाभ देने का लक्ष्य मिला है।

Edited By: Brijesh Srivastava