प्रयागराज, जेएनएन। इफको फैक्ट्री (फूलपुर) में अमोनिया गैस रिसाव मामले में फैक्ट्री प्रबंधन की लापरवाही सामने आइ है। लेबर कमिश्नर के निर्देश पर गठित पांच सदस्यीय कमेटी ने अपनी जांच पूरी कर रिपोर्ट तैयार की है। कमेटी की ओर से फैक्ट्री के प्रबंधक के खिलाफ सीजीएम कोर्ट में अभियोग पंजीकृत कराने की तैयारी है।

मामले की जांच के लिए पांच सदस्यीय कमेटी गठित थी

मंगलवार की रात में इफको फैक्ट्री में अमोनिया गैस के रिसाव से दो अफसरों वीपी सिंह और अभय नंदन की मौत हो गई थी, जबकि 13 लोग प्रभावित हुए थे। मामले की जांच के लिए लेबर कमिश्नर मो. मुस्तफा ने निदेशक कारखाना ओपी भारतीय के नेतृत्व में पांच सदस्यीय कमेटी गठित की थी। कमेटी ने बुधवार से जांच शुरू की थी। तीन दिन तकनीकी गड़बड़ी और मानवीय चूक संबंधी हुई जांच में यह बात सामने आई कि जिस प्लंजर के टूटने पर पाइप लाइन से अमोनिया गैस का रिसाव हुआ था, वह कमजोर था।

आज भेजी जाएगी रिपोर्ट

उप निदेशक (फैक्ट्री) अभय गुप्ता ने बताया कि जांच पूरी हो गई है। प्रबंधन की गलती सामने आई है। रिपोर्ट प्रमुख सचिव श्रम विभाग, लेबर कमिश्नर को शनिवार को भेज दी जाएगी। प्रबंधन की लापरवाही के कारण उप निदेशक की अनुमति पर सहायक निदेशक कारखाना द्वारा 15-20 दिनों में सीजीएम कोर्ट में इफको फैक्ट्री प्रबंधक के खिलाफ अभियोग पंजीकृत कराया जाएगा। फैक्ट्री की सेफ्टी ऑडिट और मैटेरियल की टेङ्क्षस्टग के निर्देश दिए गए हैं। कमेटी में दो उप निदेशक और दो सहायक निदेशक शामिल थे।

मृतकों के घरवालों को नौकरी और 50 लाख मुआवजा मांगा

सर्वदलीय पार्षद और पूर्व पार्षद संघर्ष समिति की कर्नलगंज में शुक्रवार को हुई बैठक में इफको फैक्ट्री हादसे का शिकार हुए वीपी सिंह और अभय नंदन की स्मृति में शोक जताया गया। कहा गया कि दोनों अफसर चाहते तो जान बचाकर फैक्ट्री के बाहर भागते लेकिन, उन्होंने दूसरे लोगों की जान बचाना आवश्यक समझकर अपनी जान जोखिम में डालकर गैस रिसाव को बंद किया। दोनों अधिकारियों के घरवालों को नौकरी एवं 50-50 लाख रुपये मुआवजा देने की मांग की गई। शोक जताने में पार्षद आनंद घिल्डियाल, अशोक सिंह, कमलेश सिंह, पूर्व पार्षद शिव सेवक सिंह, रंजन कुमार, चंद्र प्रकाश गंगा, डीके साहू, अमित सोनकर आदि शामिल थे। 

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप