प्रयागराज, जेएनएन। उत्तर प्रदेश व उत्तराखंड के पूर्व राज्यपाल डा. अजीज कुरैशी ने अपने विरुद्ध दर्ज प्राथमिकी को रद कराने के लिए इलाहाबाद हाई कोर्ट में याचिका दाखिल की है। उनके विरुद्ध रामपुर में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और भाजपा सरकार के खिलाफ अभद्र टिप्पणी के लिए लेकर मुकदमा दर्ज कराया गया है। राजद्रोह के साथ अन्य धाराओं में मामला दर्ज कराया गया है।

पूर्व राज्यपाल अजीज कुरैशी ने रामपुर में मीडिया को बयान देते हुए कहा था कि उत्तर प्रदेश की योगी सरकार और आजम खां का प्रकरण जालिम और इंसाफ की लड़ाई है। इसके खिलाफ रामपुर की जनता को सड़कों पर आ जाना चाहिए। अभी कुछ दिन पहले ही वह सांसद आजम खां की पत्नी विधायक डॉ तजीन फातिमा से मिलने उनके आवास पहुंचे थे। वहीं उन्होंने मीडिया में योगी आदित्यनाथ को लेकर टिप्पणी की थी। भाजपा नेता आकाश सक्सेना ने अजीज कुरैशी के विरुद्ध रामपुर के थाना सिविल लाइंस में मुकदमा दर्ज कराया है। मुख्यमंत्री आदित्य योगी नाथ के खिलाफ की गई टिप्पणी को लेकर दर्ज मुकदमे के खिलाफ पूर्व राज्यपाल ने मामला निरस्त कराने के लिए इलाहाबाद हाईकोर्ट में गुहार लगाई है।

क्रूर मुस्लिम आक्रांताओं से की योगी सरकार की तुलना : पिछले दिनों सपा सांसद आजम खां के परिवार का हाल लेने रामपुर पहुंचे पूर्व राज्यपाल डा. अजीज कुरैशी योगी सरकार की तुलना क्रूर मुस्लिम आक्रांताओं महमूद गजनवी और अब्दाली से की थी। इस दौरान उन्होंने पिशाच समेत कई और भी अपशब्दों का प्रयोग किया। उन्होंने कहा कि सांसद आजम खां और उनके परिवार पर जुल्म ज्यादती की जा रही है। जो जालिमाना पालिसी नीति मौजूदा हुकूमत अपना रही है, जुल्म किया है, वैसा आज तक किसी ने नहीं किया। बड़े-बड़े लुटेरे, डाकू आए। हमलावर महमूद गजनवी, अहमद शाह अब्दाली, दुर्रानी ने भी ऐसा नहीं किया। यह हमारे लोगों के साथ अन्याय है। अजीज कुरैशी यही नहीं रुके। बोले-शायद मेरे बयान से गवर्नमेंट को शर्म आए।

Edited By: Umesh Tiwari