प्रयागराज, जेएनएन। गहमागहमी के बीच यूपी बार काउंसिल कार्यकारिणी की गुरुवार को हुई बैठक में कई अहम निर्णय लिए गए। सबसे अहम निर्णय काउंसिल की नई कार्यकारिणी के चुनाव को लेकर हुआ। इसमें काउंसिल के अध्यक्ष, उपाध्यक्ष व समितियों का चुनाव 14 जून को कराने का निर्णय लिया गया। चुनाव की रूपरेखा तैयार करने के लिए 13 जून को कार्यकारिणी की बैठक होगी। लॉकडाउन में आर्थिक संकट से जूझ रहे वकीलों को सहायता मुहैया कराने के लिए कोर्ट के आदेशानुसार कदम उठाने का निर्णय लिया गया।

यूपी बार काउंसिल कार्यकारिणी की गुरुवार को हुई बैठक के दौरान काउंसिल के पूर्व अध्यक्ष बलवंत सिंह को सदस्य सचिव का कार्यभार सौंपा गया, जबकि निलंबित सचिव डॉ. रामजीत सिंह यादव को कारण बताओ नोटिस दिया जाएगा। नोटिस मिलने के 15 दिन के अंदर उन्हें कार्यालय में अपना जवाब देना होगा। जवाब मिलने के बाद सदन उनके बारे में निर्णय लेगी। बैठक की अध्यक्षता कार्यवाहक अध्यक्ष देवेंद्र मिश्र 'नगरहा' ने की, लेकिन निवर्तमान अध्यक्ष हरिशंकर सिंह अध्यक्षता करने के लिए अड़ गए। उन्होंने स्वयं के ऊपर लगे आरोपों पर खुलकर पक्ष रखा। सारे आरोपों को निराधार बताते हुए खुद को अध्यक्ष पद से हटाने का विरोध किया। उन्होंने कहा कि वकीलों को मदद दिलाने के लिए वह प्रयासरत थे, लेकिन सदन के कुछ सदस्यों की अनर्गल बयानबाजी के कारण वह कार्य पूरा नहीं हुआ।

देवेंद्र मिश्र ने बताया कि हरिशंकर सिंह शुरुआत में अध्यक्षता करना चाह रहे थे, लेकिन मेरे समझाने पर वह मान गए। कहा कि सारे सदस्यों को सम्मान देते हुए वकीलों के हित की लड़ाई लड़ी जाएगी। बैठक में कार्यकारिणी के 25 में से 21 सदस्य मौजूद रहे। इसमें बलवंत सिंह, अब्दुल रज्जाक खां, अमरेंद्रनाथ सिंह, प्रशांत सिंह अटल, रोहिताश्व कुमार अग्रवाल आदि बैठक में मौजूद रहे। 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस