जासं, इलाहाबाद : आयकर विभाग की अलग-अलग टीमों ने मंगलवार को शहर के दो नर्सिग होम में सर्वे की कार्रवाई की। टीम में शामिल अफसरों ने मरीजों की फीस, स्टॉफ के वेतन भुगतान, अगला-पिछला हिसाब रजिस्टर समेत अन्य दस्तावेज खंगाले। कार्रवाई के दौरान करोड़ों रुपये के टैक्स चोरी का मामला सामने आने की संभावना है। वहीं, देर रात तक कार्रवाई से खलबली मची रही।

टैगोर टाउन क्षेत्र में कर्नलगंज इंटर कालेज के समीप आरव न्यूरो क्लीनिक और आरव पैथोलॉजी है। आरव न्यूरो क्लीनिक का संचालन डा. ओपी सिंह और पैथोलॉजी का संचालन उनकी पत्‍‌नी पल्लवी सिंह करती हैं। वहीं, ममफोर्डगंज क्षेत्र में लाला लाजपत राय रोड पर आयुषी क्लीनिक का संचालन डा. अंकिता राजवेदी करती हैं। इन क्लीनिकों और पैथोलॉजी में टैक्स चोरी की शिकायतें आयकर विभाग को काफी दिनों से मिल रही थीं। इसलिए अंदरखाने सर्वे की तैयारी चल रही थी। प्रधान आयकर आयुक्त सुबचन राम के निर्देशन में अलग-अलग टीमें मंगलवार दोपहर 12 बजे के बाद भारी पुलिस फोर्स के साथ इन क्लीनिकों पर सर्वे करने पहुंचीं तो खलबली मच गई। अफसरों ने एक-एक दस्तावेज खंगाले, अगले-पिछले हिसाब से संबंधित खाता रजिस्टर चेक किए। डॉक्टरों और अन्य स्टॉफ से लंबी पूछताछ की गई। क्लीनिकों और पैथोलॉजी में संपत्ति विनियोग और मरीजों की फीस से संदर्भित उल्लेख न मिलने पर रजिस्टर व खाता बुक सीज कर टीम ने जब्त कर लिए। देर रात तक सर्वे की कार्रवाई जारी रही। सर्वे में डिप्टी कमिश्नर मोहित निगम, आयकर अधिकारी विमलेश, रोमा सोंधी, अरूप मुखर्जी, सुब्रतो गुप्ता, दीपक अग्रवाल, अनिल त्रिपाठी, यूएस चौहान के अलावा कई इंस्पेक्टर भी शामिल रहे।

Posted By: Jagran