प्रयागराज, जागरण संवाददाता। डेंगू की जांच में प्राइवेट पैथालाजी संचालक अब 750 रुपये से ज्यादा नहीं ले सकेंगे। प्राइवेट पैथालाजी में रैपिड टेस्ट होता है और इसके लिए मनमाना शुल्क वसूला जा रहा है। मुख्य चिकित्साधिकारी डा. नानक सरन ने सोमवार को कार्यालय में बैठक के दौरान पैथालाजी संचालकों को निर्देश दिए हैं कि 750 रुपये ही लें और इसके बदले रसीद भी दी जाए।

एक हजार रुपये से ज्यादा चार्ज करने की मिली शिकायत

डेंगू इन दिनों जिले में तेजी से फैल गया है। जांच कराने के लिए लोग प्राइवेट पैथालाजी भी जा रहे हैं। कहीं 1000 और कहीं इससे भी अधिक रुपये लिए जाने की शिकायतें मिल रही हैं। मुख्य चिकित्साधिकारी ने शुल्क निर्धारित करते हुए कहा है कि यह आदेश नवंबर तक लागू रहेगा। ज्यादा पैसे लिए जाने की शिकायत मिली तो प्रशासनिक कार्रवाई होगी। यह भी कहा कि ब्लड बैंकों में शाम के समय प्लेटलेट की उपलब्धता रखी जाए ताकि किसी जरूरतमंद को खाली हाथ नहीं लौटना पड़े।

Edited By: Ankur Tripathi

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट