प्रयागराज, जागरण संवाददाता। शहर से सटे अरैल में दोस्तों संग घर के भीतर नाश्ता कर रहे भाजपा बूथ अध्यक्ष अभिलाष पांडेय (30) की बुधवार दोपहर गोली लगने से मौत हो गई। अरैल में दिनदहाड़े वारदात से सनसनी फैल गई। पुलिस ने हत्या का मुकदमा लिखकर आरोपित रिश्तेदार विवेक तिवारी को पकड़ लिया है। उससे पूछताछ चल रही है। हालांकि चश्मदीद दोस्तों ने पुलिस को बताया कि विवेक पिस्टल लेकर घर आया था, जिसे दिखाने के दौरान गोली चली और अभिलाष के सीने में लग गई थी। अभी पुलिस तहकीकात कर रही है।

पिता हैं पुरोहित, अभिषेक करता था प्रापर्टी डीलिंग

अरैल गांव निवासी दीनानाथ पांडेय पूजापाठ करवाते हैं। उनका बेटा अभिलाष प्रापर्टी डीलिंग का काम करता था। वह भाजपा का बूथ अध्यक्ष भी था। बताया जाता है कि बुधवार दोपहर अभिलाष अपने चचेरे भाई नितिन व गांव के दोस्त मुनीम तिवारी, विवेक तिवारी और सुरेंद्र शुक्ला के साथ घर के अगले हिस्से में बैठकर छोला समोसा खा रहा था। आरोप है कि उसी वक्त रिश्तेदार विवेक आया और अवैध पिस्टल दिखाने लगा। तभी अचानक गोली चली और अभिलाष के सीने में लग गई। फायरिंग की आवाज सुनकर घरवाले आ गए। आनन-फानन पुलिस को बिना सूचना दिए जख्मी अभिलाष को पहले निजी अस्पताल और फिर स्वरूपरानी नेहरू अस्पताल ले गए, जहां डाक्टरों ने मृत घोषित कर दिया। स्वरूपरानी नेहरू चौकी प्रभारी ने घटना की जानकारी नैनी पुलिस को दी तो इंस्पेक्टर और सीओ घटनास्थल पर पहुंचे। जांच करते हुए एक टीम अस्पताल गई और चश्मदीद दोस्तों को पकड़कर थाने ले आई। यहां पूछताछ में उन्होंने पूरी कहानी बयां कर दी। इंस्पेक्टर नैनी कुशलपाल सिंह का कहना है कि मृतक पिता की तहरीर पर विवेक के खिलाफ हत्या का मुकदमा लिखकर जांच की जा रही है।

एसपी यमुनापार ने बताया

चश्मदीद दोस्तों ने बयान दिया है कि विवेक अवैध पिस्टल लेकर आया और उसे दिखाने लगा। तभी गोली चली और अभिलाष को लग गई। हालांकि मामले में हत्या का मुकदमा कायम किया गया है। अभियुक्त विवेक पहले भी जेल जा चुका है।

- सौरभ दीक्षित, एसपी यमुनापार

अधिवक्ता के बेटे को गोली मारने वाले गिरफ्त से दूर

प्रतापगढ़ जनपद में रानीगंज इलाके के पूरे गोसाई गांव में जमीन के विवाद को लेकर रविवार को अधिवक्ता के बेटे को गोली मारने की घटना में पुलिस ने 14 लोगों पर मुकदमा तो दर्ज कर लिया, लेकिन 48 घंटे बाद भी पुलिस के हाथ खाली हैं। पूरे गोसाई गांव के रहने वाले अधिवक्ता शिवशंकर मिश्रा का अपने पड़ोसी रमाकांत त्रिपाठी से जमीन पर कब्जे के लिए काफी दिनों से रंजिश चल रही है। रविवार को रमाकांत आदि विवादित जमीन में नाली की खोदाई कर रहे थे। इसका शिवशंकर के बेटे गोविंद मिश्र ने विरोध किया तो विपक्षियों ने उसे गोली मार दी थी। इस मामले में अधिवक्ता शिवशंकर मिश्रा की तहरीर पर पुलिस ने रमाकांत त्रिपाठी सहित 14 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है। वहीं घायल गोविंद का इलाज प्रयागराज में चल रहा है। पुलिस एक भी आरोपित को गिरफ्तार नहीं कर सकी है। एसओ अनिल पांडेय का कहना है कि आरोपितों के घर दबिश दी जा रही है। जल्द ही उन्हें गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

Edited By: Ankur Tripathi