प्रयागराज, जेएनएन। कोरोना वायरस संकट के इस आफत के समय पुलिस रात-दिन जनसेवा और लोगों को संक्रमण से बचाने की जिद्दोजहद करते हुए अपराध के मोर्चे पर भी डटी है। लॉकडाउन के शुरुआती दिनों में तो कुछ राहत थी फिर अपराध ने रफ्तार पकड़ लिया। एक के बाद एक कत्ल होने लगे। सामूहिक हत्याकांड, चोरी, छिनैती पुलिस के लिए सिरदर्द बन गए हैं।

इन आंकड़ों पर भी डालें एक नजर

- 07 मई को मांडा के आंधी गांव में रेत दिया बेटी समेत दंपती का गला

- 14 मई को प्रीतम नगर में बुजुर्ग दंपती समेत बेटी और बहू की ली जान

- 16 मई को थरवई में सीआरपीएफ सिपाही ने पत्नी, बच्चों को गोली से छलनी कर दी जान।

- 10 दिनों के भीतर दिया घटना को अंजाम

- 07 घटनाएं हो चुकी लॉकडाउन में हत्या की।

- 14 लोग मारे गए कत्ल की इन घटनाओं में।

- 07 छिनैती और छिनैती की कोशिश इस दौरान।

- 03 सामूहिक हत्या के भी मामले लॉकडाउन में।

- 23 आपराधिक मुकदमे पिछले एक सप्ताह में।

-15 दिन से लगातार हो रही हैं घटनाएं।

सिपाही को ट्रैक्टर से कुचलकर मार डाला गया था

10 अप्रैल की रात नैनी के मोहब्बतगंज के ठकुरी का पूरा गांव में अवैध खनन करने वालों ने सिपाही रवि पांडेय को ट्रैक्टर से कुचलकर मार डाला गया था। इस मामले में हत्या का मुकदमा लिखकर नैनी पुलिस ने सात लोगों को गिरफ्तार किया। 

आइजी रेंज केपी सिंह यह कहते हैं

आइजी रेंज केपी सिंह कहते हैं कि यह सच है कि कुछ दिनों में सामूहिक हत्याकांड समेत अन्य अपराध प्रयागराज में हुए हैं। पुलिस ने सभी घटनाओं में गिरफ्तारी की है। एक-दो घटनाओं का राजफाश होना बाकी है, जिसमें पुलिस टीम तहकीकात कर रही है।

Posted By: Brijesh Srivastava

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस