प्रयागराज, जेएनएन। कोरोना वायरस संक्रमण से पूरी दुनिया परेशान है। इधर कुछ दिनों से अपने देश में कोरोना संक्रमण तेजी से फिर फैलने लगा है। हालांकि इसके रोकथाम के लिए सरकार के साथ ही स्‍थानीय प्रशासन और स्‍वास्‍थ्‍य विभाग के लोग लगे हैं। हालांकि संक्रमण काल में प्रदेश सरकार की ओर से की गई होम आइसोलेशन की पहल प्रयागराज में सफल रहा है। जब से प्रदेश सरकार की ओर से व्यवस्था की गई है तब से अब तक 18 हजार से भी ज्यादा कोरोना मरीजों ने घर में ही रहकर इस बीमारी को मात दिया है।

होम आइसोलेशन में रहने वाले कोरोना मरीजों का ग्राफ भी कम

होम आइसोलेशन में रहने वाले कोरोना मरीजों का ग्राफ भी बहुत कम है। विभागीय आंकड़ों के मुताबिक, करीब एक दर्जन ऐसे मरीजों की जान गई है जो होम आइसोलेशन में थे और उनकी उम्र में ज्यादा थी। वह पुराने किसी बीमारी की चपेट में थे। इसके अलावा करीब सात हजार कोरोना मरीजों ने कोविड अस्पताल में रहकर कोरोना की जंग जीती है।

कोरोना के ग्राफ में आई गिरावट

सोमवार को कोरोना के ग्राफ में गिरावट आई है, 24 घंटे में कोराेना के महज 65 कोरोना पॉजिटिव केस मिले और दो कोरोना संक्रमितों की मौत भी हो गई। सोमवार देर शाम तक कोरोना मरीजों का कुल आंकड़ा 26 हजार के पार पहुंचा था। नवंबर माह की बात की जाए तो पिछले माह की अपेक्षा अब तक कोरोना के कम मरीज कम पाए गए हैं। बीते 24 घंटे की बात करें तो संक्रमित होने वालों की अपेक्षा स्वस्थ होने वालों की संख्या ज्यादा रही। 90 कोरोना मरीजों ने इस महामारी को मात देते हुए अस्पताल से घर गए। स्वस्थ होने वालों में सबसे ज्यादा संख्या होम आइसोलेशन के मरीजों की है।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप