प्रयागराज, जेएनएन। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने गुरुवार को प्रयागराज के अपने दौरे पर पुरखों की कार्यस्थली आनंद भवन में बैठक करने के बाद संगम पर बेटी के साथ पूजा-अर्चना की। इस दौरान उन्होंने बिना लाइफ जैकेट नाव की सवारी भी कर ली। जिसके बाद से वहां पर उनकी सुरक्षा को लेकर सवाल उठ रहे हैं। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने मौनी अमावस्या स्नान पर्व पर दोपहर करीब दो बजे पावन त्रिवेणी में पुण्य की डुबकी लगाई। बेटी मिराया और बेटे रेहान ने भी साथ में डुबकी लगाई।

आराधना मिश्रा मोना और दिल्ली से साथ आईं दो अन्य सहयोगियों ने भी स्नान किया। इस दौरान आसपास कड़ी सुरक्षा थी। स्नान के बाद सभी फिर अरैल घाट पहुंचे। यहां से वह 2.41 बजे सरस्वती घाट स्थित मनकामेश्वर मंदिर के लिए रवाना हुई । मंदिर में पूजा अर्चना के बाद वह द्वारका-शारदा पीठ के शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती से मुलाकात करने पहुंची।

शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद से मिलीं प्रियंका गांधी: संगम पर स्नान तथा पूजन के बाद प्रियंका गांधी वाड्रा ने शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद से भेंट की। प्रियंका ने कहा कि यहां आकर बहुत खुशी हुई क्योंकि शंकराचार्य जी और मेरे परिवार का पुराना रिश्ता रहा है। वर्ष 1990 में जब पिताजी चुनाव हारे थे, तो उन्होंने नए घर में प्रवेश किया था, उनके गृह प्रवेश की पूजा शंकराचार्य जी ने ही की थी।

इससे पहले संगमनगरी प्रयागराज में अपने पुरखों के स्मृति स्थल आनंद भवन आकर अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा भाव विभोर हो गईं। अपने बच्‍चों के साथ प्रयागराज पधारीं प्रियंका गांधी वाड्रा ने अपने पैतृक आवास आनंद भवन में अपने पुरखों को याद किया। उन्होंने देश के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरु की स्मृतिका पर पुष्पांजलि के साथ ही पंडित मोती लाल नेहरू व इंदिरा गांधी को भी नमन किया।

प्रयागराज के बमरौली एयरपोर्ट से आनंद भवन पहुंची प्रियंका गांधी वाड्रा ने पहले पंडित जवाहर लाल नेहरू की स्मृति स्थल पर पुष्प अर्पित किया। इसके बाद बैठक की और फिर यहां पर स्वराज भवन ट्रस्ट से जुड़े कर्मचारियोंं के स्वजन से भी मुलाकात की। उन्होंने स्वराज भवन ट्रस्ट के संचालित अनाथालय में रहने वाले बच्चों के साथ भी कुछ पल बिताया। वह कुल एक घंटा तक यहां रूकीं। 

इसके बाद कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा की गाडिय़ों का काफिला आनंद भवन से संगम के लिए निकला। इससे पहले प्रयागराज पहुंचने पर एयरपोर्ट पर उत्तर प्रदेश तथा प्रयागराज के नेताओं के साथ उनका स्वागत वरिष्ठ नेता प्रमोद तिवारी ने किया। वह कांग्रेस विधानमंडल दल की नेता आराधना मिश्र मोना के साथ दिल्ली से आई हैं। उनके स्वागत में एनएसयूआई के प्रदेश अध्यक्ष अखिलेश यादव की अगुवाई में सैकड़ों छात्र पहुंच चुके हैं। सुरक्षा व्यवस्था के लिहाज से यहां व्यवस्था चाक चौबंद कर दी गई ।