प्रयागराज,जेएनएन : संगम नगरी में गांधी जयंती यानि दो अक्टूबर से स्वच्छ सर्वेक्षण जागरूकता अभियान

शुरू हो चुका है। स्वच्छ सर्वेक्षण को लेकर लोगों को जागरूक करने की कार्ययोजना नगर निगम तीन सप्ताह पहले बना चुका है, लेकिन उस पर अभी तक अमल नहीं हो पाया है। लोगों को घर-घर जाकर जागरूक करने का अभियान कमेटियों के गठन तक सिमटकर रह गया है। कूड़ा उठाने वाली गाडिय़ों में अभी पोस्टर तक नहीं लग सके हैैं। स्वच्छता एप डाउनलोड कराने की मुहिम भी शुरू नहीं हो पाई है।

पिछले वर्ष प्रयागराज में कुंभ मेला के साफ-सफाई पर विशेष जोर देने के बाद भी प्रयागराज की स्वच्छता रैंकिंग 141वीं थी। प्रयागराज में जागरूकता अभियान विलंब से शुरू होने का नुकसान हुआ था। प्रयागराज में सवा महीने से स्वच्छ सर्वेक्षण चल रहा है, लेकिन लोग इसके बारे में जागरूक नहीं हैं। वार्ड स्तर पर पार्षद को लेकर प्रोत्साहन समिति बनाकर निगम चुपचाप बैठ गया है। लोगों को घर-घर जाकर जागरूक करने का काम नहीं हो रहा है। स्वच्छ सर्वेक्षण में लोगों का फीडबैक महत्वपूर्ण है। नगर निगम इस पर भी  ध्यान नहीं दे रहा है। दीवारों पर स्वच्छता के संदेश, स्कूलों में स्वच्छता को लेकर प्रतियोगिताएं शुरू नहीं हो पाई हैं। ऐसे में इस बार प्रयागराज की स्वच्छता रैंकिंग में सुधार होने की उम्मीद कम है। नगर आयुक्त रवि रंजन का कहना है कि एक सप्ताह में स्वच्छ सर्वेक्षण का जागरूकता अभियान रफ्तार पकड़ लेगा। स्वच्छता एप डाउनलोड कराने के लिए अलग से एक टीम लगाई जाएगी। लोगों को प्रोत्साहन के लिए इनाम भी दिया जाएगा।

Posted By: Brijesh Srivastava

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप