प्रयागराज, जागरण संवाददाता। प्रतियोगी मोर्चा ने माध्यमिक शिक्षा सेवा चयन बोर्ड के अध्यक्ष से टीजीटी और पीजीटी के 27000 पदों पर भर्ती के लिए विज्ञापन जारी करने के लिए आवाज उठाई है। यह भी कहा है कि विज्ञापन में शर्त लगाई जाए कि समान वेतनमान पर कार्य करने वाले अभ्यर्थी इन रिक्तियों पर आवेदन न कर सकें। यदि वह आवेदन करेंगे और चयनित होने पर पूर्व में जिस पद पर नियुक्त हैं उसे छोड़ेंगे तो एक पद रिक्त हो जाएगा। ऐसी स्थिति में यह सुनिश्चत हो कि अनावश्यक रूप से पद रिक्त न होने पाएं।

प्रतियोगी मोर्चा ने की यह मांग

अभ्यर्थियों ने यह भी मांग की है कि विज्ञापन वर्ष 2021 के परीक्षा परिणाम जारी किए जाएं। इस भर्ती में जो लोग पूर्व में टीजीटी व पीजीटी में चयनित हैं, उनसे विभाग की एनओसी मांगी जाए। उन्हें मौका भी दिया जाए कि वह स्वत: अपना अभ्यर्थन निरस्त करा दें।

ज्ञापन में बातों को उल्लिखित किया गया है

माध्यमिक शिक्षा सेवा चयन बोर्ड के अध्यक्ष को दिए ज्ञापन में अभ्यर्थियों ने कहा है कि बोर्ड की तरफ से जो परीक्षा पारिणाम जारी हों, उसमें अंतिम प्रतीक्षा सूची 25 प्रतिशत तक जारी की जाए। मांग किया कि उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा सेवा चयन बोर्ड अधिनियम 1982 व उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा सेवा चयन बोर्ड नियमावली 1998 में भी इसका उल्लेखित है। इसका पालन किया जाता है तो लाभ मिलेगा। विज्ञापन वर्ष 2021 में सभी तदर्थ शिक्षकों के रिक्त पदों का अंतिम परिणाम जारी होने के साथ, 15198 पदों के अतिरिक्त तदर्थ पदों को जोड़कर प्रकाशित किया जाना चाहिए। ऐसा करने से भर्ती प्रक्रिया पारदर्शी बनी रहेगी।

क्विज में धनूपुर ब्लॉक अव्वल

बेसिक शिक्षा विभाग इन दिनों आनलाइन साप्ताहिक क्विज का आयोजन कर रहा है। प्रत्येक शनिवार बच्चों के शैक्षणिक ग्रुपों में इसका लिंक भेजा जाता है। कक्षा एक से आठ तक के विद्यार्थी पूरे सप्ताह इसमें सहभागिता करते हैं। यह प्रक्रिया प्रदेशभर में चल रही है। प्रतिभाग करने वाले बच्चों की जिले व ब्लाकवार सूची भी जारी की जा रही है। इससे जिले व ब्लाक की रैंकिंग तय हो रही है। दो सप्ताह के आंकड़ों के अनुसार विकासखंड धनूपुर जनपद में अव्वल रहा। यहां से कुल 3741 विद्यार्थियों ने क्विज में हिस्सा लिया। धनूपुर विकासखंड प्रदेश में 27वें पायदान पर है। खंड शिक्षा अधिकारी डा. प्रभा शंकर पांडेय ने बताया कि इस सफलता के पीछे सभी शिक्षकों की मेहनत है। सभी एआरपी ने भी सक्रियता दिखाई जिससे लक्ष्य प्राप्त हुआ।

 

Edited By: Brijesh Srivastava