प्रयागराज, जागरण संवाददाता। काफी इंतजार के बाद इलाहाबाद केंद्रीय विश्वविद्यालय में शिक्षक और कर्मचारी भर्ती शुरू हुई तो उस पर कोरोना की काली साया पड़ गई। नए सत्र 2021-22 की प्रवेश प्रक्रिया भी फंस गई। हालात तो यह हो गए हैं कि संयुक्त शोध प्रवेश परीक्षा (क्रेट-2021) के लिए आवेदन तक नहीं मांगे जा सके। इसके अलावा वार्षिक और सेमेस्टर परीक्षा पर भी अब संशय है। हालांकि, विश्वविद्यालय प्रशासन इन चुनौतियों के बीच भी तैयारियों में जुटा है।

विश्‍वविद्यालय में 596 पदों पर भर्ती के लिए मांगे गए हैं आवेदन

इलाहाबाद विश्वविद्यालय में असिस्टेंट प्रोफेसर, एसोसिएट प्रोफेसर और प्रोफेसर के कुल 596 पदों पर भर्ती के लिए आवेदन मांगे गए थे। 47 विषयों में असिस्टेंट प्रोफेसर के 356, 40 विषयों में एसोसिएट प्रोफेसर के 170 और 36 विषयों में प्रोफेसर के 70 पद शामिल हैं। इसके अलावा गैर शैक्षणिक पदों पर कर्मचारियों के कुल 632 पद रिक्त हैं। इनमें ग्रुप ए के 32, ग्रुप बी के 73 और ग्रुप सी के सर्वाधिक 527 पद खाली हैं। रिक्त पदों के सापेक्ष 412 पदों के लिए आवेदन मांगे गए।

कोरोना संकट टलने पर ही भर्ती शुरू होने की उम्‍मीद

भर्ती प्रक्रिया का आगाज भी व्यवहार एवं संज्ञानात्मक केंद्र यानी सीबीसीएस से हो गया। इसी बीच प्रयागराज में कोरोना की काली साया पड़ गई। इस लिहाज से विश्वविद्यालय बंद कर दिया गया। फिर भर्ती के साथ नए सत्र की प्रवेश प्रक्रिया भी रोक दी गई। अब कोरोना का संकट टलने के बाद ही भर्ती शुरू होने के उम्मीद जताए जा रहे हैं।

Edited By: Brijesh Srivastava