प्रयागराज, जेएनएन। इलाहाबाद विश्वविद्यालय से जुड़े हॉस्टलों में फिर से गुंडागर्दी शुरू हो गई है। हॉलैंड हॉल हॉस्टल में छात्रसंघ अध्यक्ष पर फाय¨रग और तोड़फोड़ की घटना ने एक बार फिर हॉस्टलों की सुरक्षा पर सवाल खड़े कर दिए हैं। पीसीबी छात्रावास में रोहित शुक्ला की हत्या के बाद उच्च न्यायालय ने इविवि प्रशासन, पुलिस और प्रशासन को फटकार लगाते हुए सुरक्षा इंतजामों को लेकर हलफनामा दाखिल करवाया था। एक नहीं दो हलफनामा दाखिल कर सुरक्षा व्यवस्था बेहतर करने का वायदा किया गया।
 अब महज कुछ दिनों बाद ही हॉस्टल में छात्रों के दो गुटों में गुंडई, फायरिंग सुरक्षा इंतजामों पर तमाचा ही है। इलाहाबाद विश्वविद्यालय के पीसीबी हॉस्टल में हत्या के बाद पुलिस, प्रशासन और विश्वविद्यालय प्रशासन ने हाईकोर्ट में दो बार हलफनामा दाखिल कर भरोसा दिलाया है कि अब हालात जुदा रहेंगे। संयुक्त टीम हॉस्टल की गतिविधियों पर नजर रख जरूरी कार्रवाई करेगी। सुरक्षा इंतजाम पुख्ता रहने का भरोसा दिलाया गया है।
 हॉस्टलों को अपराध मुक्त रखने के साथ ही शहर की कानून व्यवस्था किस तरीके से बेहतर करेंगे इसका जिक्र भी हलफनामे में किया गया है। हाईकोर्ट में हलफनामा दाखिल हुए अभी कुछ ही दिन बीते हैं कि हॉस्टलों में छात्र गुटों की मनमानी फिर से शुरू हो गई। इविवि के छात्रसंघ अध्यक्ष उदय प्रकाश यादव ने कर्नलगंज थाने में मुकदमा दर्ज कराया है। उदय का आरोप है कि 19 मई को वह हॉलैंड हाल हॉस्टल में स्थित अपने चैंबर में थे तभी दूसरे गुट के छात्रों ने हमला कर फायरिंग की। गोली चलाने के बाद हमलावरों ने तोड़फोड़ कर सामान फेंक दिया। शोर मचाने पर अन्य छात्र आए तो हमलावर भाग गए।
 उदय ने राहुल यादव उर्फ रुद्र, सतीश और पुलकित को नामजद करते हुए एक दर्जन अज्ञात छात्रों पर रिपोर्ट दर्ज कराई है। उदय का आरोप है कि छात्रसंघ चुनाव की रंजिश को लेकर इन लोगों ने मुझ पर फायरिंग की। कर्नलगंज पुलिस रिपोर्ट दर्ज कर जांच कर रही है।
 इंस्पेक्टर ओपी यादव का कहना है कि रिपोर्ट दर्ज कर जांच की जा रही है। वहां सीसीटीवी कैमरे नहीं लगे हैं। आरोपित छात्रों की तलाश चल रही है। एसएसपी अतुल शर्मा ने का कहना है कि मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई की जा रही है। हॉस्टलों को लेकर पुलिस सख्त है। हॉस्टल में रहने वाले इविवि प्रशासन के कर्मचारियों को भी पुलिस को सूचित करना चाहिए। वहां सीसीटीवी का इंतजाम विवि प्रशासन को करना है। पुलिस आरोपित छात्रों को लगातार जेल भेज रही है।

सबसे बड़ा ऑपरेशन, 474 कमरे खाली लेकिन फायदा नहीं
पीबीसी हॉस्टल में रोहित शुक्ला की हत्या के बाद हाईकोर्ट का हंटर चला तो पुलिस और इविवि प्रशासन ने बड़े पैमाने पर कार्रवाई की। पहली बार हुआ है कि इविवि के पंद्रह हॉस्टलों में युद्ध स्तर पर छापेमारी कर 474 कमरों में ताला लटका दिया गया। अभियान के तहत पांच दिन में 15 हॉस्टलों में ताबड़तोड़ छापामारी कर अवैध रूप से रहने वालों 400 से अधिक लोगों पर मुकदमा तक दर्ज किया गया। पुलिस छापेमारी के दौरान 24 से अधिक लोगों को हॉस्टल आदि से गिरफ्तार भी किया गया। इतना कुछ होने के बात भी यदि हालात जस के तस हैं तो इविवि प्रशासन को नए सिरे से सोचना होगा।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप